Lyrics Zindagi Is Terah Se

0
890

Zindagi Is Terah Se (Female)-Lyrics in English

Zindgi
Is Tarah Se
Lagne Lagi
Rang Ud Jaaye Jo
Deewaaron Se

Ab Chhupaane Ko Apna
Kuchh Na Raha
Zakhm Dikhne Lagi
Daraaron Se…………

Main Tere
Jism Ki
Hoon Parchhaayee
Mujh Ko Kaise
Rakhoge Khud Se Juda

Bhool Karna To Meri
Fitrat Hai
Kyoon Ki Insaan Hoon Main
Nahin Hoon Khuda
Kyoon Ki Insaan Hoon Main
Nahin Hoon Khuda

Mujh Ko Hai
Apni Har
Khata Manzoor
Bhool Ho Jaati Hai
Insaanon Se

Ab Chhupaane Ko Apna
Kuchh Na Raha
Zakhm Dikhne Lagi
Daraaron Se…………

Jab Kabhi
Shaam Ke
Andheron Me
Raah Panchhi
Jo Bhool Jaate Hain

Wo Subah
Hote Hi
Meelon Chal Kar
Apni Shaakhon Pe Laut Aate Hain (2)

Kuchh Hamaare Bhi Saath
Aisa Hua
Ham Yahi Keh Rahe
Ishaaron Se

Zindgi
Is Tarah Se
Lagne Lagi
Rang Ud Jaaye Jo
Deewaaron Se

Ab Chhupaane Ko Apna
Kuchh Na Raha
Zakhm Dikhne Lagi
Daraaron Se…………

Song: Zindgi Is Tarah Se (Female)
Film: Murder (2004)
Singer: Anuradha Paudwal
Music Director: Anu Malik
Lyricist: Sayeed Quadri
Featuring: Mallika Sherawat, Ashmit Patel

Zindagi Is Terah Se (Female)-Lyrics in Hindi

ज़िंदगी
इस तरह से
लगने लगी
रंग उड़ जाए जो
दीवारों से

अब छुपाने को अपना
कुछ ना रहा
ज़ख्म दिखने लगी
दरारों से…………

मैं तेरे
जिस्म की
हूँ परछाई
मुझ को कैसे
रखोगे खुद से जुदा

भूल करना तो मेरी
फितरत है
क्यूँ की इंसान हूँ मैं
नहीं हूँ खुदा
क्यूँ की इंसान हूँ मैं
नहीं हूँ खुदा

मुझ को है
अपनी हर
खता मंज़ूर
भूल हो जाती है
इंसानों से

अब छुपाने को अपना
कुछ ना रहा
ज़ख्म दिखने लगी
दरारों से…………

जब कभी
शाम के
अंधेरों में
राह पंछी
जो भूल जाते हैं

वो सुबह
होते ही
मीलों चल कर
अपनी शाखों पे लौट आते हैं (2)

कुछ हमारे भी साथ
ऐसा हुआ
हम यही कह रहे
इशारों से

ज़िंदगी
इस तरह से
लगने लगी
रंग उड़ जाए जो
दीवारों से

अब छुपाने को अपना
कुछ ना रहा
ज़ख्म दिखने लगी
दरारों से…………

गीत: ज़िंदगी इस तरह से (महिला)
फिल्म: मर्डर (2004)
गायक: अनुराधा पौडवाल
संगीतकार: अनु मालिक
गीतकार: सईद कादरी
कलाकार: अश्मित पटेल, मल्लिका शेरावत

More Songs from Murder (2004)

Spread the love

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here