Lyrics Zindagi Is Terah

0
982

Zindagi Is Terah Se (Male)-Lyrics in English

Zindgi
Is Tarah Se
Lagne Lagi
Rang Ud Jaaye Jo
Deewaaron Se

Ab Chhupaane Ko Apna
Kuchh Na Raha
Zakhm Dikhne Lagi
Daraaron Se…………

Ab Talak
Sirf Tujh Ko Dekha Tha
Aaj Tu Kya Hai Ye Bhi Jaan Liya

Aaj Jab Gaur Se
Tujhe Dekha
Ham Galat Thai Kahin Ye Maan Liya (2)

Meri Har Bhool Me
Rahi Shaayad
Ham Bhi Shaamil Hai
Gunhagaaron Se

Ab Chhupaane Ko Apna
Kuchh Na Raha
Zakhm Dikhne Lagi
Daraaron Se…………

Aa Mere Saath Mil Ke Ham Phir Se
Apne Khwaabon Ka Ghar Banaate Hai

Jo Bhi Bikhra Hai Wo
Samet-Te Hai
Dhoond Kar Khushi Ko Laate Hai (2)

Bojh Toa Zindgi Ka Kat-Ta Hai
Ek Dooje Ke Hi
Sahaaron Se

Zindgi
Is Tarah Se
Lagne Lagi
Rang Ud Jaaye Jo

Deewaaron Se
Ab Chhupaane Ko Apna
Kuchh Na Raha
Zakhm Dikhne Lagi
Daraaron Se…………

Song: Zindgi Is Tarah Se (Male)
Film: Murder (2004)
Singer: Sonu Nigam
Music Director: Anu Malik
Lyricist: Sayeed Quadri
Featuring: Mallika Sherawat, Ashmit Patel

Zindagi Is Kadar (Male) – Lyrics

Zindagi Is Terah Se (Male)-Lyrics in Hindi

ज़िंदगी
इस तरह से
लगने लगी
रंग उड़ जाए जो
दीवारों से

अब छुपाने को अपना
कुछ ना रहा
ज़ख्म दिखने लगी
दरारों से…………

अब तलक
सिर्फ तुझ को देखा था
आज तू क्या है ये भी जान लिया

आज जब गौर से
तुझे देखा
हम गलत थे कहीं ये मान लिया (2)

मेरी हर भूल में
रही शायद
हम भी शामिल है
गुनहगारों से

अब छुपाने को अपना
कुछ ना रहा
ज़ख्म दिखने लगी
दरारों से…………

आ मेरे साथ मिल के हम फिर से
अपने ख़्वाबों का घर बनाते है

जो भी बिखरा है वो
समेटते है
ढून्ढ कर ख़ुशी को लाते है (2)

बोझ तो ज़िंदगी का कटता है
एक दूजे के ही
सहारों से

ज़िंदगी
इस तरह से
लगने लगी
रंग उड़ जाए जो
दीवारों से

अब छुपाने को अपना
कुछ ना रहा
ज़ख्म दिखने लगी
दरारों से…………

गीत: ज़िंदगी इस तरह से (पुरुष)
फिल्म: मर्डर (2004)
गायक: सोनू निगम
संगीतकार: अनु मालिक
गीतकार: सईद कादरी
कलाकार: अश्मित पटेल, मल्लिका शेरावत

More Songs from Murder (2004)

Spread the love

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here