Lyrics Pasand Aa Gayi Hai Ik Kaafir Haseena

0
346

Lyrics in English | Pasand Aa Gayi Hai Ik Kaafir Haseena | Mehboob Ki Mehndi-1971 | Mohammed Rafi

Pasand Aa Gayi Hai Ik
Kaafir Haseena
Pasand Aa Gayi Hai
Pasand Aa Gayi Hai Ik
Kaafir Haseena
Umar Us Ki Solah
Baras Chheh Maheena
Pasand Aa Gayi Hai
Sitamgar Ne Mushkil
Kiya Mera Jeena
Umar Us Ki Solah
Baras Chheh Maheena
Pasand Aa Gayi Hai………….

Jannat Ki Hooron Sa Dilkash
Jamaal
Dariya Ki Maujon
See Badmast Chaal
Jannat Ki Hooron Sa Dilkash
Jamaal
Dariya Ki Maujon
See Badmast Chaal
Sheeshe Ke Saagar
Sa
Sheeshe Ke Saagar Sa
Naazuk Badan
To Shabnam Ke
Katron Sa
Rangeen Paseena
Umar Us Ki Solah
Baras Chheh Maheena
Pasand Aa Gayi Hai………….

Anatakshari Songs from “P”

Kamsin Abhi Hai
Wo Naadan Hai
Ulfat
Ki Baaton Se Anjaan Hai
Kamsin Abhi Hai
Wo Naadan Hai
Ulfat
Ki Baaton Se Anjaan Hai
Us Bekhabar Ko
Us Bekhabar Ko
Nahin Kuchh Khabar
Gham-e-ishq Se
Funk Gaya Mera Seena
Umar Us Ki Solah
Baras Chheh Maheena
Pasand Aa Gayi Hai………….

Kitni Haseen Meri
Mehboob Hai
Jodi
Hamaari Bahut Khoob Hai
Kitni Haseen Meri
Mehboob Hai
Jodi
Hamaari Bahut Khoob Hai
Shaayar Hoon Main To
Shaayar Hoon Main To
Wo Jaan-e-gazal
Angoothi Hai Wo
Aur Main Hoon Nageena
Umar Us Ki Solah
Baras Chheh Maheena
Pasand Aa Gayi Hai Ik
Kaafir Haseena
Umar Us Ki Solah
Baras Chheh Maheena
Pasand Aa Gayi Hai………….

Song: Pasand Aa Gayi Hai Ik Kaafir Haseena
Film: Mehboob Ki Mehndi (1971)
Singer: Mohammed Rafi
Music Director: Laxmikant-Pyarelal
Lyricist: Anand Bakshi
Featuring: Rajesh Khanna, Leena Chandavarkar

Lyrics in Hindi | Pasand Aa Gayi Hai Ik Kaafir Haseena | Mehboob Ki Mehndi-1971 | Rajesh Khanna

पसंद आ गयी है इक
काफ़िर हसीना
पसंद आ गयी है
पसंद आ गयी है इक
काफ़िर हसीना
उमर उसकी सोलह
बरस छह महीना
पसंद आ गयी है
सितमगर ने मुश्किल
किया मेरा जीना
उमर उसकी सोलह
बरस छह महीना
पसंद आ गयी है……….

जन्नत की हूरों से दिलकश
जमाल
दरिया की मौजों
सी बदमस्त चाल
जन्नत की हूरों से दिलकश
जमाल
दरिया की मौजों
सी बदमस्त चाल
शीशे के सागर
सा
शीशे के सागर सा
नाज़ुक बदन
तोह शबनम के
कतरों सा
रंगीं पसीना
उमर उसकी सोलह
बरस छह महीना
पसंद आ गयी है……….

कमसिन अभी है
वो नादान है
उल्फत
की बातों से अनजान है
कमसिन अभी है
वो नादान है
उल्फत
की बातों से अनजान है
उस बेख़बर को
उस बेख़बर को
नहीं कुछ खबर
ग़म-ए-इश्क़ से
फुँक गया मेरा सीना
उमर उसकी सोलह
बरस छह महीना
पसंद आ गयी है……….

Songs from Mehboob Ki Mehndi (1971)

कितनी हसीँ मेरी
महबूब है
जोड़ी
हमारी बहुत खूब है
कितनी हसीँ मेरी
महबूब है
जोड़ी
हमारी बहुत खूब है
शायर हूँ मैं तो
शायर हूँ मैं तो
वो जान-ए-ग़ज़ल
अँगूठी है वो
और मैं हूँ नगीना
उमर उसकी सोलह
बरस छह महीना
पसंद आ गयी है इक
काफ़िर हसीना
उमर उसकी सोलह
बरस छह महीना
पसंद आ गयी है……………

गीत: पसंद आ गयी है इक काफ़िर हसीना
फिल्म: महबूब की मेहन्दी (1971)
गायक: मोहम्मद रफ़ी
संगीतकार: लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल
गीतकार: आनंद बक्शी
कलाकार: राजेश खन्ना, लीना चंद्रावरकर

Pasand Aa Gayi Hai Ik Kaafir Haseena-YouTube Video | Mehboob Ki Mehndi-1971

Lyrics Pasand Aa Gayi Hai Ik Kaafir Haseena from Mehboob Ki Mehndi-1971
Spread the love

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here