Lyrics Zindagi Ittefaq Hai (Duet)

0
871

Lyrics in English | Zindagi Ittefaq Hai (Duet) | Aadmi Aur Insaan (1969) | Dharmendra, Mumtaz, Feroz Khan

Zindagi Ittefaq Hai (2)
Kal Bhi
Ittefaq Thi
Aaj Bhi Ittefaq Hai
Zindagi Ittefaq Hai………..

Koyi To
Baat Kijiye
Yaaron Ka Saath Dijiye
Kabhi Gairon Pe Bhi
Apno Ka Gumaan Hota Hai
Kabhi Apne Bhi
Nazar Aate Hain Begaane Se
Waah Waah
Kabhi Khwabon Me
Chmakte Hain
Muraadon Ke Mahal
Kabhi Mahlon Me
Ubhar Aate Hain Veerane Se
Haye
Aaye Haye
Koyi Rut Bhi Sada Nahi
Kya Ho Kab Kuchh Pata Nahi
Gham Fazool Hain
Gham Na Kar
Aaj To Jashn Gham Na Kar
Mere Humdam
Mere Maherbaan
Har Khushi Ittefaq Hai (2)
Kal Bhi
Ittefaq Thi
Aaj Bhi Ittefaq Hai
Zindagi Ittefaq Hai…………

Songs starting from word “Zindagi”

Koyi Dekhoon To Is Kadar
Dhoondti Hai
Kise Nazar
Aaj Maloom Hua
Pahle Ye Maloom Na Tha
Chaahten Badh Ke
Pashemaan Bhi Ho Jaati Hai

Achchha
Dekhte Dekhte
Anjaan Bhi Ho Jaati Hai
Dekhte Dekhte
Anjaan Bhi Ho Jaati Hai

Yaar Jab Ajnabi Bane
Yaar Jab Berukhi Bane
Dil Pe Sah Ja Gila Na Kar
Sab Se Hans Ke Mila Nazar
Mere Humdam
Mere Meharbaan
Dosti Ittefaq Hai (2)
Kal Bhi
Ittefaq Thi
Aaj Bhi Ittefaq Hai
Zindagi Ittefaq Hai…………..

Song: Zindagi Ittefaq Hai (Duet)
Film: Aadmi Aur Insaan (1969)
Singer: Asha Bhosle, Mahendra Kapoor
Music: Ravi
Lyricist: Sahir Ludhiyanvi
Featuring: Mumtaz, Dharmendra, Feroz Khan

Lyrics in Hindi | Zindagi Ittefaq Hai (Duet) | Aadmi Aur Insaan (1969) | Asha Bhosle, Mahendra Kapoor

ज़िन्दगी इत्तेफ़ाक़ है (२)
कल भी
इत्तेफ़ाक़ थी
आज भी इत्तेफ़ाक़ है
ज़िन्दगी इत्तेफ़ाक़ है………..

कोई तो
बात कीजिए
यारों का साथ दीजिए
कभी गैरों पे भी
अपनों का गुमाँ होता है
कभी अपने भी
नजर आते है बेगाने से

वाह वाह
कभी ख्वाबों में
चमकते हैं
मुरादों के महल
कभी महलों में
उभर आते है वीराने से

हाय
आये हाय
कोई रुत भी सदा नहीं
क्या हो कब कुछ पता नहीं
ग़म फजूल है
ग़म ना कर
आज तो जश्न गम ना कर
मेरे हमदम
मेरे मेहरबाँ
हर ख़ुशी इत्तेफ़ाक़ है (2)
कल भी
इत्तेफ़ाक़ थी
आज भी इत्तेफ़ाक़ है
ज़िन्दगी इत्तेफ़ाक़ है………..

Dual Versions Bollywood Songs

कोई देखूँ तो इस कदर
ढूँढ़ती है
किसे नजर
आज मालूम हुआ
पहले ये मालूम ना था
चाहतें बढ़ के
पशेमाँ भी हो जाती है

अच्छा
देखते देखते
अंजान भी हो जाती है
देखते देखते
अंजान भी हो जाती है

यार जब अजनबी बने
यार जब बेरुखी बने
दिल पे सह जा गिला ना कर
सब से हँस के मिला नजर
मेरे हमदम
मेरे मेहरबाँ
दोस्ती इत्तेफ़ाक़ है (2)
कल भी
इत्तेफ़ाक़ थी
आज भी इत्तेफ़ाक़ है
ज़िन्दगी इत्तेफ़ाक़ है………..

गीत: ज़िन्दगी इत्तेफ़ाक़ है (युगल)
फिल्म: आदमी और इंसान (1969)
गायक: महेंद्र कपूर, आशा भोंसले
संगीतकार: रवि
गीतकार: साहिर लुधियानवी
कलाकार: धर्मेंद्र, मुमताज़, फ़िरोज़ ख़ान

Zindagi Ittefaq Hai | Aadmi Aur Insaan (1969) – YouTube

Lyrics Zindagi Ittefaq Hai from Aadmi Aur Insaan (1969)

Spread the love

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here