Lyrics Paise Ki Pehchaan Yahaan

0
1161

Lyrics in English | Paise Ki Pehchaan Yahaan | Pehchan (1970) | Manoj Kumar

Paise Ki Pehchaan Yahaan
Insaan Ki Keemat Koyi Nahi
Bach Ke Nikal Ja Is Basti Me
Karta Muhabbat Koyi Nahi
Paise Ki Pehchaan Yahaan
Insaan Ki Keemat Koyi Nahi
Bach Ke Nikal Ja Is Basti Me
Karta Muhabbat Koyi Nahi………..

Biwi Bahan Maa Beti Na Koyi
Paise Ka Sab Rishta Hai
Biwi Bahan Maa Beti Na Koyi
Paise Ka Sab Rishta Hai
Aankh Ka Aansoon
Khoon Jigar Ka
Mitti Se Bhi Sasta Hai (2)
Sab Ka Teri Jeb Se Naata
Teri Zururat Koyi Nahi
Bach Ke Nikal Ja Is Basti Me
Karta Muhabbat Koyi Nahi………..

Best Sad Songs of 1970

Shokh Gunaahon Ki Ye Mandi
Meetha Zehar Jawaani Hai
Shokh Gunaahon Ki Ye Mandi
Meetha Zehar Jawaani Hai
Kahte Hai Imaan Jise Wo
Kuchh Noton Ki Kahaani Hai (2)
Bhookh Hai Mazhab Is Duniya Ka
Aur Hakeekat Koyi Nahi
Bach Ke Nikal Ja Is Basti Me
Karta Muhabbat Koyi Nahi………..

Zindagi Kya Hai Cheez Yahaan
Mat Poochh Aankh Bhar Aati Hai
Zindagi Kya Hai Cheez Yahaan
Mat Poochh Aankh Bhar Aati Hai
Raat Me Karti Byaah Kali Wo
Bewa Subah Ho Jaati Hai (2)
Aurat Ban Kar Is Koonche Me
Rahti Aurat Koyi Nahi
Bach Ke Nikal Ja Is Basti Me
Karta Muhabbat Koyi Nahi (2)………..

Song: Paise Ki Pehchaan Yahaan
Film: Pehchan (1970)
Singer: Mohammed Rafi
Music Director: Shankar-Jaikishan
Lyricist: Neeraj
Featuring: Manoj Kumar

Lyrics in Hindi | Paise Ki Pehchaan Yahaan | Pehchan (1970) | Mohammed Rafi

पैसे की पहचान यहाँ
इंसान की कीमत कोई नहीं
बच के निकल जा इस बस्ती में
करता मोहब्बत कोई नहीं
पैसे की पहचान यहाँ
इंसान की कीमत कोई नहीं
बच के निकल जा इस बस्ती में
करता मोहब्बत कोई नहीं…………

बीवी बहन माँ बेटी ना कोई
पैसे का सब रिश्ता है
बीवी बहन माँ बेटी ना कोई
पैसे का सब रिश्ता है
आँख का आँसू
खून जिगर का
मिट्टी से भी सस्ता है (2)
सब का तेरी जेब से नाता
तेरी जरुरत कोई नहीं
बच के निकल जा इस बस्ती में
करता मोहब्बत कोई नहीं…………

Best Songs of Manoj Kumar

शोख़ गुनाहों की ये मंडी
मीठा ज़हर जवानी है
शोख़ गुनाहों की ये मंडी
मीठा ज़हर जवानी है
कहते है ईमान जिसे वो
कुछ नोटों की कहानी है (2)
भूख है मज़हब इस दुनिया का
और हक़ीक़त कोई नहीं
बच के निकल जा इस बस्ती में
करता मोहब्बत कोई नहीं………….

ज़िन्दगी क्या है चीज़ यहाँ
मत पुछ आँख भर आती है
ज़िन्दगी क्या है चीज़ यहाँ
मत पुछ आँख भर आती है
रात में करती ब्याह कली वो
बेवा सुबह हो जाती है (2)
औरत बन कर इस कूँचे में
रहती औरत कोई नहीं
बच के निकल जा इस बस्ती में
करता मोहब्बत कोई नहीं (2)………….

गीत: पैसे की पहचान यहाँ
फिल्म: पहचान (1970)
गायक: मोहम्मद रफ़ी
संगीतकार: शंकर-जयकिशन
गीतकार: नीरज
कलाकार: मनोज कुमार

Paise Ki Pehchaan Yahaan | Pehchan (1970) – YouTube

Lyrics Paise Ki Pehchaan Yahaan from Pehchan (1970)

Spread the love

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here