Lyrics Manzilon Pe Aa Ke

0
1031

Lyrics in English | Manzile Apni Jagah Hai | Sharaabi-1984 | Amitabh Bachchan

Manzilon Pe Aa Ke Lut-Te
Hain Dilon Ke Kaarwaanan
Kashtiyaan Saahil Pe Aksar
Doobti Hain Pyar Ki

Manzile Apni Jagah Hai
Raaste Apni Jagah
Manzile Apni Jagah Hai
Raaste Apni Jagah
Jab Kadam Hi Saath Na De
Toa Musaafir Kya Kare

Yoon To Hai
Hamdard Bhi Aur
Hamsafar Bhi Hai Mera

Yoon To Hai
Hamdard Bhi Aur
Hamsafar Bhi Hai Mera

Bad Ke Koyee Haath Na De
Dil Bhala Phir Kya Kare
Manzile Apni Jagah Hai
Raaste Apni Jagah………

Top 100 Songs of Amitabh Bachchan

Doobne Waale Ko
Tinke Ka Sahaara Hi Bahut
Dil Behal Jaaye Fakat
Itna Ishaara Hi Bahut

Itne Per Bhi Aasamaan Waala
Gira De Bijliyaan
Koyee Batal De Zara
Ye Doobta Phir Kya Kare

Manzile Apni Jagah Hai
Raaste Apni Jagah………..

Top 100 Songs of Kishore Kumar

Pyar Karna Jurm Hai Toa
Jurm Ham Se Ho Gaya
Kaabil-E-Maafi Hua
Karte Nahi Aise Gunaah

Tangdil Hai Ye Jahaan Aur
Sangdil Mera Sanam
Kya Kare
Josh-E-Zunoon Aur
Hausla Phir
Kya Kare

Manzile Apni Jagah Hai
Raaste Apni Jagah
Jab Kadam Hi Saath Na De
Toa Musaafir Kya Kare

Yoon To Hai
Hamdard Bhi Aur
Hamsafar Bhi Hai Mera
Bad Ke Koyee
Haath Na De
Dil Bhala
Phir Kya Kare.……

Song: Manzile Apni Jagah Hai
Film: Sharaabi (1984)
Singer: Kishore Kumar
Music Director: Bappi Lahiri
Lyricist: Prakash Mehra
Featuring: Amitabh Bachchan

Manzile Apni Jagah Hai-YouTube Video | Sharaabi (1984)

Manzile Apni Jagah Hai Lyrics

Lyrics in Hindi | Manzile Apni Jagah Hai | Sharaabi-1984 | Kishore Kumar

मंज़िलो पे आ के लुटते
है दिलो के कारवाँ
कश्तिया साहिल पे अक्सर
डूबती है प्यार की

मंज़िले अपनी जगह है
रास्ते अपनी जगह
मंज़िले अपनी जगह है
रास्ते अपनी जगह
जब कदम ही साथ न दे
तो मुसाफिर क्या करे

यूँ तो है
हमदर्द भी और
हमसफ़र भी है मेरा

यूँ तो है
हमदर्द भी और
हमसफ़र भी है मेरा

बढ़ के कोई हाथ ना दे
दिल भला फिर क्या क्या करे
मंज़िले अपनी जगह है
रास्ते अपनी जगह ………..

Top 50 Songs written by Prakash Mehra

डूबने वाले को
तिनके का सहारा ही बहुत
दिल बहल जाये फ़क़त
इतना इशारा ही बहुत

इतने पर भी आसमाँ वाला
गिरा दे बिजलियाँ
कोई बतला दे ज़रा
ये डूबता फिर क्या करे

मंज़िले अपनी जगह है
रास्ते अपनी जगह ………..

Top 100 Songs of Bappi Lahiri

प्यार करना जुर्म है तो
प्यार हमसे हो गया
काबिले माफ़ी हुआ
करते नहीं ऐसे गुनाह

तंगदिल है ये जहाँ और
संगदिल मेरा सनम
क्या करे
जोशे जुनूँ और
हौसला फिर
क्या करे

मंज़िले अपनी जगह है
रास्ते अपनी जगह
जब कदम ही साथ ना दे
तो मुसाफिर क्या करे

यूँ तो है
हमदर्द भी और
हमसफ़र भी है मेरा
बढ़ के कोई
हाथ ना दे
दिल भला
फिर क्या क्या करे……….

गीत: मंज़िले अपनी जगह है
फिल्म: शराबी (1984)
गायक: किशोर कुमार
संगीतकार: बप्पी लाहिरी
गीतकार: प्रकाश मेहरा
कलाकार: अमिताभ बच्चन

More Songs from Sharaabi (1984)

Spread the love

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here