Lyrics Khuli Palak Me Jhootha Gussa

0
1154

Khuli Palak Me Jhootha Gussa Lyrics in English

Zara Thehro (2)
Sadaa Mere Dil Ki
Zara Sunate Jaana

Khuli Palak Me Jhoota Gussa
Band Palak Me Pyar
Jeena Bhi Mushkil
Marna Bhi Mushkil
Aankhon Me Ikraar Ki Jhalki
Hothon Pe Inkaar
Jeena Bhi Mushkil Hoye
Marna Bhi Mushkil………..

Jis Din Se Dekha Tum Ko
Tum Lage Mujhe Apne Se
Aur Aate Rahe Aankhon Me Haye
Aur Aate Rahe Aankhon Me
Ek Manchaahe Sapne Se
Samajh Na Aaye Kya Jeeta Main
Aur Gaya Kya Haar
Jeena Bhi Mushkil
Marna Bhi Mushkil
Khuli Palak Me Jhoota Gussa
Band Palak Me Pyar
Jeena Bhi Mushkil
Marna Bhi Mushkil……….

Tum Pyar Chhupa Ke Haare
Main Pyar Jata Ke Haara
Ab To Saari Duniya Pe Hoye
Ab To Saari Duniya Pe
Zaahir Hai Haal Hamaara
Pahunch Ke Is Manzil Pe Lautna
Ab To Hai Dushwaar
Jeena Bhi Mushkil
Marna Bhi Mushkil
Khuli Palak Me Jhoota Gussa
Band Palak Me Pyar
Jeena Bhi Mushkil Haye
Marna Bhi Mushkil……….

Ise Meri Baat Na Samjho
Kya Banta Hai Baat Bana Ke
Kuchh Kehna Tha Mere Dil Ka Hoye
Kuchh Kehna Tha Mere Dil Ka
Jaata Hoon Wahi Dohra Ke
Na Ho Yakeen To Padh Kar Dekho
Aankhon Me Ik Baar
Jeena Bhi Mushkil
Marna Bhi Mushkil
Khuli Palak Me Jhoota Gussa
Band Palak Me Pyar
Jeena Bhi Mushkil
Marna Bhi Mushkil
Aankhon Me Ikraar Ki Jhalki
Hothon Pe Inkaar
Jeena Bhi Mushkil Haye
Marna Bhi Mushkil
Jeena Bhi Mushkil
Marna Bhi Mushkil………..

Song: Khuli Palak Me Jhootha Gussa
Film: Professor (1962)
Singer: Mohammed Rafi
Music Director: Shankar-Jaikishan
Lyricist: Shailendra
Featuring: Shammi Kapoor, Kalpana Mohan

Khuli Palak Me Jhootha Gussa Lyrics in Hindi

ज़रा ठहरो (2)
सदा मेरे दिल की
ज़रा सुनते जाना

खुली पलक में झूठा गुस्सा
बंद पलक में प्यार
जीना भी मुश्किल
मरना भी मुश्किल
आँखों में इकरार की झलकी
होठों पे इंकार
जीना भी मुश्किल
मरना भी मुश्किल ………..

जिस दिन से देखा तुम को
तुम लगे मुझे अपने से
और आते रहे आँखों में हाय
और आते रहे आँखों में
एक मनचाहे सपने से
समझ ना आये क्या जीता मैं
और गया क्या हार
जीना भी मुश्किल
मरना भी मुश्किल
खुली पलक में झूठा गुस्सा
बंद पलक में प्यार
जीना भी मुश्किल
मरना भी मुश्किल ……….

तुम प्यार छुपा के हारे
मैं प्यार जाता के हारा
अब तो सारी दुनिया पे होये
अब तो सारी दुनिया पे
ज़ाहिर है हाल हमारा
पहुँच के इस मंज़िल पे लौटना
अब तो है दुष्वार
जीना भी मुश्किल
मरना भी मुश्किल
खुली पलक में झूठा गुस्सा
बंद पलक में प्यार
जीना भी मुश्किल हाय
मरना भी मुश्किल……….

इसे मेरी बात ना समझो
क्या बनता है बात बना के
कुछ कहना था मेरे दिल का होये
कुछ कहना था मेरे दिल का
जाता हूँ वही दोहरा के
ना हो यकीं तो पढ़ कर देखो
आँखों में इक बार
जीना भी मुश्किल
मरना भी मुश्किल
खुली पलक में झूठा गुस्सा
बंद पलक में प्यार
जीना भी मुश्किल
मरना भी मुश्किल
आँखों में इकरार की झलकी
होठों पे इंकार
जीना भी मुश्किल हाय
मरना भी मुश्किल
जीना भी मुश्किल
मरना भी मुश्किल………..

गीत: खुली पलक में झूठा गुस्सा
फिल्म: प्रोफेसर (1962)
गायक: मोहम्मद रफ़ी
संगीतकार: शंकर-जयकिशन
गीतकार: शैलेन्द्र
कलाकार: शम्मी कपूर, कल्पना मोहन

More Songs from Professor (1962)

Spread the love

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here