Lyrics Jab Ishq Kahin Ho Jata Hai

0
910

Lyrics in English | Jab Ishq Kahin Ho Jata Hai Tab Aisi Haalat Hoti Hai| Arzoo (1965)

Aadaab Arz Hai (2)
Tasleem (2)
Jab Ishq Kahin Ho Jata Hai
Tab Aisi Haalat Hoti Hai
Mehfil Me Jee Ghabraata Hai
Tanhayee Ki Aadat Hoti Hai
Jab Ishq Kahin Ho Jata Hai
Tab Aisi Haalat Hoti Hai
Mehfil Me Jee Ghabraata Hai
Tanhayee Ki Aadat Hoti Hai
Jab Ishq Kahin Ho Jata Hai…………

Best Qawwali Songs of 60’s

Haan Ye Ishq Chhupaye
Chhup Na Saka
Ye Ishq Wo Chalta Jaadu Hai
Haye
Kuchh Hosh Nahi Rehte Kaayam
Is Ishq Pe Kis Ka Kaabu Hai
Hain Ishq Me Pencho Ham Itne
Goya Mehboob Ka Gesu Hai
Har Jaanib Failti Jaati Hai
Is Ishq Ki Aisi Khusboo Hai
Chehre Pe Haya Ho Jaati Hai
Kya Cheez Mohabbat Hoti Hai
Mehfil Me Jee Ghabraata Hai
Tanhayee Ki Aadat Hoti Hai
Jab Ishq Kahin Ho Jata Hai
Tab Aisi Haalat Hoti Hai
Mehfil Me Jee Ghabraata Hai
Tanhayee Ki Aadat Hoti Hai
Jab Ishq Kahin Ho Jata Hai…………

Songs Starting from “J”

Aankhon Me Hai Laakhon Afsaane
Khamosh Hai Lab Wo Manzil Hai
Har Saans Me Laakhon Toofan Hain
Toofan Me Dil Ka Saahil Hai
Armaan Machalte Rehte Hai
Ye Dard Bada Hi Qaatil Hai
Roke Se Qayamat Ruk Jaaye
Par Rokna Dil Ka Mushkil Hai
Deedar Ki Payasi Aankon Ko
Deedar Ki Hasrat Hoti Hai
Mehfil Me Jee Ghabraata Hai
Tanhayee Ki Aadat Hoti Hai
Jab Ishq Kahin Ho Jata Hai
Tab Aisi Haalat Hoti Hai
Mehfil Me Jee Ghabraata Hai
Tanhayee Ki Aadat Hoti Hai
Jab Ishq Kahin Ho Jata Hai…………

Song: Jab Ishq Kahin Ho Jata Hai
Film: Arzoo (1965)
Singer: Asha Bhosle, Mubarak Begum
Music Director: Shankar-Jaikishan
Lyricist: Hasrat Jaipuri
Featuring: Sadhana

Lyrics Jab Ishq Kahin Ho Jata Hai from Arzoo (1965)

Lyrics in Hindi | Jab Ishq Kahin Ho Jata Hai Tab Aisi Haalat Hoti Hai| Arzoo (1965)

आदाब अर्ज़ है (2)
तसलीम (2)
जब इश्क़ कहीं हो जाता है
तब ऐसी हालत होती है
महफ़िल में जी घबराता है
तन्हाई की आदत होती है
जब इश्क़ कहीं हो जाता है
तब ऐसी हालत होती है
महफ़िल में जी घबराता है
तन्हाई की आदत होती है
जब इश्क़ कहीं हो जाता है …………

Top 50 Songs of Sadhana

हाँ ये इश्क़ छुपाये
छुप ना सका
ये इश्क़ वो चलता जादू है
हाय
कुछ होश नहीं रहते कायम
इस इश्क़ पे किस का काबू है
हैं इश्क़ में पेंचो हम इतने
गोया महबूब का गेसू है
हर जानिब फैलती जाती है
इस इश्क़ की ऐसी खुसबू है
चेहरे पे हाय हो जाती है
क्या चीज़ मोहब्बत होती है
महफ़िल में जी घबराता है
तन्हाई की आदत होती है
जब इश्क़ कहीं हो जाता है
तब ऐसी हालत होती है
महफ़िल में जी घबराता है
तन्हाई की आदत होती है
जब इश्क़ कहीं हो जाता है …………

100 Best Songs of 60’s

आँखों में है लाखों अफ़साने
खामोश है लब वो मंज़िल है
हर सांस में लाखों तूफाँ हैं
तूफाँ में दिल का साहिल है
अरमाँ मचलते रहते है
ये दर्द बड़ा ही क़ातिल है
रोके से क़यामत रुक जाए
पर रोकना दिल का मुश्किल है
दीदार की पयासी आँखों को
दीदार की हसरत होती है
महफ़िल में जी घबराता है
तन्हाई की आदत होती है
जब इश्क़ कहीं हो जाता है
तब ऐसी हालत होती है
महफ़िल में जी घबराता है
तन्हाई की आदत होती है
जब इश्क़ कहीं हो जाता है …………

गीत: जब इश्क़ कहीं हो जाता है
फिल्म: आरज़ू (1965)
गायक: आशा भोंसले, मुबारक बेगम
संगीतकार: शंकर-जयकिशन
गीतकार: हसरत जयपुरी
कलाकार: साधना

Spread the love

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here