Lyrics Dil Vil Pyar Vyar

0
829

Lyrics in English | Dil Vil Pyar Vyar Main Kya Janoon | Shagird-1967 | Lata Mangeshkar

Dil Vil Pyar Vyar
Main Kya Janoon Re
Dil Vil Pyar Vyar
Main Kya Janoon Re
Janoon To Janoon Bas Itna Ke
Main Tujhe Apna Janoon Re

Dil Vil Pyar Vyar
Main Kya Janoon Re
Dil Vil Pyar Vyar
Main Kya Janoon Re
Janoon To Janoon Bas Itna Ke
Main Tujhe Apna Janoon Re
Dil Vil Pyar Vyar…………

Tu Hai Bura To Hoga
Par Baaton Me Teri Ras Hai
Jaisa Bhi Hai Mujhe Kya
Apna Lage To Bas Hai
Ghar Ho Tera (2)
Jis Nagri Me
Chaahe Jo Ho Tera Naam Re
Ghar Var Naam Vaam
Main Kya Janoon Re
Ghar Var Naam Vaam
Main Kya Janoon Re
Janoon To Janoon Bas Itna Ke
Main Tujhe Apna Janoon Re
Dil Vil Pyar Vyar…………

Aadat Nahi Ki Sochoon
Kitno Me Haseen Hai Tu
Lat Me Hai Kitne Ghoonghar
Naino Me Kitna Jaadu
Bas Tu Mohe (2)
Achha Laage
Itne Hi Se Mujh Ko Kaam Re
Lat Vat Nain Vain
Main Kya Janoon Re
Lat Vat Nain Vain
Main Kya Janoon Re
Janoon To Janoon Bas Itna Ke
Main Tujhe Apna Janoon Re
Dil Vil Pyar Vyar…………

Kuchh Janati To Kehti
Rut Ban Kar Ke Main Khili Hoon
Daali Si Jhoomti Main
Saajan Se Aa Mili Hoon
Tu Hi Jaane Rut Hai Kaisi
Aur Hai Kitni Rangi Shaam Re
Rut Vut Shaam Vaam
Main Kya Janoon Re
Rut Vut Shaam Vaam
Main Kya Janoon Re
Janoon To Janoon Bas Itna Ke
Main Tujhe Apna Janoon Re

Dil Vil Pyar Vyar
Main Kya Janoon Re
Dil Vil Pyar Vyar
Main Kya Janoon Re
Janoon To Janoon Bas Itna Ke
Main Tujhe Apna Janoon Re
Dil Vil Pyar Vyar…………

Song: Dil Vil Pyar Vyar
Film: Shagird (1967)
Singer: Lata Mangeshkar
Music Director: Laxmikant-Pyarelal
Lyricist: Majrooh Sultanpuri
Featuring: Saira Banu, Joy Mukherjee

Lyrics in English | Dil Vil Pyar Vyar Main Kya Janoon | Shagird-1967 | Saira Banu

दिल विल प्यार व्यार
मैं क्या जानूँ रे
दिल विल प्यार व्यार
मैं क्या जानूँ रे
जानूँ तो जानूँ बस इतना के
मैं तुझे अपना जानूँ रे

दिल विल प्यार व्यार
मैं क्या जानूँ रे
दिल विल प्यार व्यार
मैं क्या जानूँ रे
जानूँ तो जानूँ बस इतना के
मैं तुझे अपना जानूँ रे
दिल विल प्यार व्यार …………

तू है बुरा तो होगा
पर बातों में तेरी रास है
जैसा भी है मुझे क्या
अपना लगे तो बस है
घर हो तेरा (2)
जिस नगरी में
चाहे जो हो तेरा नाम रे
घर वर नाम वाम
मैं क्या जानूँ रे
घर वर नाम वाम
मैं क्या जानूँ रे
जानूँ तो जानूँ बस इतना के
मैं तुझे अपना जानूँ रे
दिल विल प्यार व्यार …………

आदत नहीं की सोचूँ
कितनों में हसीं है तू
लट में है कितने घूंघर
नैनो में कितना जादू
बस तू मोहे (2)
अच्छा लागे
इतने ही से मुझ को काम रे
लट वट नैन वैन
मैं क्या जानूँ रे
लट वट नैन वैन
मैं क्या जानूँ रे
जानूँ तो जानूँ बस इतना के
मैं तुझे अपना जानूँ रे
दिल विल प्यार व्यार …………

कुछ जानती तो कहती
रुत बन कर के मैं खिली हूँ
डाली सी झूमती मैं
साजन से आ मिली हूँ
तू ही जाने रुत है कैसी
और है कितनी रंगी शाम रे
रुत वुत शाम वाम
मैं क्या जानूँ रे
रुत वुत शाम वाम
मैं क्या जानूँ रे
जानूँ तो जानूँ बस इतना के
मैं तुझे अपना जानूँ रे
दिल विल प्यार व्यार
मैं तुझे अपना जानूँ रे

दिल विल प्यार व्यार
मैं क्या जानूँ रे
जानूँ तो जानूँ बस इतना के
मैं तुझे अपना जानूँ रे
दिल विल प्यार व्यार …………

गीत: दिल विल प्यार व्यार
फिल्म: शागिर्द (1967)
गायक: लता मंगेशकर
संगीतकार: लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल
गीतकार: मज़रुह सुल्तानपुरी
कलाकार: सायरा बानो, जॉय मुख़र्जी

Spread the love

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here