Lyrics Zara Nazron Se Keh Do Jee

0
974

Zara Nazron Se Keh Do Jee Lyrics in English

Zara Nazaron Se Keh Do Jee
Nishaana Chook Na Jaaye

Zara Nazaron Se Keh Do Jee
Nishaana Chook Na Jaaye

Zara Nazaron Se Keh Do Jee
Maza Jab Hai Tumhaari Har
Ada Kaatil Hi Kehlaaye

Zara Nazaron Se Keh Do Jee
Nishaana Chook Na Jaaye
Zara Nazaron Se Keh Do Jee………….

Kaatil Pukaroon
Ya Jaane Wafa Kahoon
Hairat Me Pad Gaya Hoon
Ke Main Tum Ko Kya Kahoon
Zamaana Hai Tumhaara (2)
Chaahe Jis Ki Zindgi Le Lo
Agar Mera Kaha Maano
To Aise Khel Na Khelo
Zamaana Hai Tumhaara
Chaahe Jis Ki Zindgi Le Lo
Agar Mera Kaha Maano
To Aise Khel Na Khelo
Tumhaari Is Shararat Se
Na Jaane Kis Ki Maut Aaye

Zara Nazaron Se Keh Do Jee
Nishaana Chook Na Jaaye
Zara Nazaron Se Keh Do Jee………….

Haye Kitni Masoom Lag Rahi Ho Tum
Tum Ko Zaalim Kahe Wo Jhoota Hai
Ye Bholapan Tumhaara (2)
Ye Shararat Aur Ye Shokhi
Zarurat Kya Tumhe Talwaar Ki
Teeron Ki Khanzar Ki
Ye Bholapan Tumhaara
Ye Shararat Aur Ye Shokhi
Zarurat Kya Tumhe Talwaar Ki
Teeron Ki Khanzar Ki
Nazar Bhar Ke
Jise Tum Dekh Lo
Wo Khud Hi Mar Jaaye

Zara Nazaron Se Keh Do Jee
Nishaana Chook Na Jaaye
Zara Nazaron Se Keh Do Jee………….

Ham Pe Kyon Is Kadar Bigadati Ho
Chhedne Waale Tum Ko
Aur Bhi Hai
Bahaaron Par Karo Gussa
Ulajhati Hai Jo Aankhon Se
Hawaon Par Karo Gussa
Jo Takaraati Hai Zulfon Se
Bahaaron Par Karo Gussa
Ulajhati Hai Jo Aankhon Se
Hawaon Par Karo Gussa
Jo Takaraati Hai Zulfon Se
Kahi Aisa Na Ho Koyee
Tumhaara Dil Bhi Le Jaaye

Zara Nazaron Se Keh Do Jee
Nishaana Chook Na Jaaye

Zara Nazaron Se Keh Do Jee
Maza Jab Hai Tumhaari Har
Ada Kaatil Hi Kehlaaye

Zara Nazaron Se Keh Do Jee
Nishaana Chook Na Jaaye
Zara Nazaron Se Keh Do Jee………….

Song: Zara Nazron Se Keh Do Jee
Film: Bees Saal Baad (1962)
Singer: Hemant Kumar
Music Director: Hemant Kumar
Lyricist: Shakeel Badayuni
Featuring: Biswajit, Waheeda Rehman

Zara Nazron Se Keh Do Jee Lyrics in Hindi

ज़रा नज़रों से कह दो जी
निशाना चूक ना जाए

ज़रा नज़रों से कह दो जी
निशाना चूक ना जाए

ज़रा नज़रों से कह दो जी
मज़ा जब है तुम्हारी हर
अदा कातिल ही कहलाये

ज़रा नज़रों से कह दो जी
निशाना चूक ना जाए
ज़रा नज़रों से कह दो जी ………….

कातिल पुकारूँ
या जाने वफ़ा कहूँ
हैरत में पड़ गया हूँ
के मैं तुम को क्या कहूँ
ज़माना है तुम्हारा (2)
चाहे जिस की ज़िंदगी ले लो
अगर मेरा कहा मानो
तो ऐसे खेल ना खेलो
ज़माना है तुम्हारा
चाहे जिस की ज़िंदगी ले लो
अगर मेरा कहा मानो
तो ऐसे खेल ना खेलो
तुम्हारी इस शरारत से
ना जाने किस की मौत आये

ज़रा नज़रों से कह दो जी
निशाना चूक ना जाए
ज़रा नज़रों से कह दो जी ………….

हाय कितनी मासूम लग रही हो तुम
तुम को ज़ालिम कहे वो झूठा है
ये भोलापन तुम्हारा (2)
ये शरारत और ये शोखी
ज़रुरत क्या तुम्हे तलवार की
तीरों की खंज़र की
ये भोलापन तुम्हारा
ये शरारत और ये शोखी
ज़रुरत क्या तुम्हे तलवार की
तीरों की खंज़र की
नज़र भर के
जिसे तुम देख लो
वो खुद ही मर जाए

ज़रा नज़रों से कह दो जी
निशाना चूक ना जाए
ज़रा नज़रों से कह दो जी ………….
हम पे क्यों इस कदर बिगड़ती हो
छेड़ने वाले तुम को
और भी है
बहारों पर करो गुस्सा
उलझती है जो आँखों से
हवाओं पर करो गुस्सा
जो टकराती है ज़ुल्फ़ों से
बहारों पर करो गुस्सा
उलझती है जो आँखों से
हवाओं पर करो गुस्सा
जो टकराती है ज़ुल्फ़ों से
कही ऐसा ना हो कोई
तुम्हारा दिल भी ले जाए

ज़रा नज़रों से कह दो जी
निशाना चूक ना जाए

ज़रा नज़रों से कह दो जी
मज़ा जब है तुम्हारी हर
अदा कातिल ही कहलाये

ज़रा नज़रों से कह दो जी
निशाना चूक ना जाए
ज़रा नज़रों से कह दो जी ………….

गीत: Zara Nazron Se Keh Do Jee
फिल्म: बीस साल बाद (1962)
गायक: हेमंत कुमार
संगीतकार: हेमंत कुमार
गीतकार: शकील बदायुनी
कलाकार: बिस्वजीत चटर्जी, वहीदा रहमान

More Songs from Bees Saal Baad (1962)

Spread the love

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here