Lyrics Yahan Main Ajnabi Hoon

0
808

Lyrics in English | Yahan Main Ajnabi Hoon | Jab Jab Phool Khile (1965)

Kabhi Pahele Dekha Nahi Ye Samma
Ye Main Bhool Se
Aa Gaya Hoon Kahaan
Yahan Main Ajnabi Hoon (2)
Main Jo Hoon Bas Wohi Hoon (2)
Yahan Main Ajnabi Hoon (2)…………

Top 100 Solo Songs of Mohammed Rafi

Kahaan Shaam-O-Sahar Ye
Kahaan Din Raat Mere
Bahut Rusawa Hue Hain
Yahan Jazbaat Mere
Nayee Tehzeeb Hai Ye
Naya Hai Ye ZAmmana
Magar Main Aadmi Hoon
Wohi Sadiyon Puraana
Main Kya Jaanoo Ye Baaten
Zara Insaaf Karna
Meri Gustakhiyon Ko
Kudaara Maaf Karna
Yahan Main Ajnabi Hoon (2)…………

Superhit Songs of 1965

Teri Baanhon Me Dekhoon
Sanam Gairon Ki Baanhen
Main Launga Kahaan Se
Bhala Aisi Nigaahen
Ye Koyi Raks Hoga
Koyi Dastoor Hoga
Mujhe Dastoor Aisa
Kahaan Manzoor Hoga
Bhala Kaise Ye Mera
Lahoo Ho Jaaye Paani
Main Kaise Bhool Jaaoon
Main Hoon Hindustaani
Yahan Main Ajnabi Hoon (2)…………

Superhit Songs of 60’s

Mujhe Bhi Hai Shikaayat
Tujhe Bhi To Gila Hai
Yahi Shikwe HAmmari
Mohabbat Ka Sila Hai
Kabhi Magarib Se Mashrik
Mila Hai Jo Milega
Jahaan Ka Phool Hai Jo
Wahin Pe Wo Khilega
Tere Oonche Mahal Me
Nahin Mera Guzaara
Mujhe Yaad Aa Raha Hai
Wo Chhota Sa Shikaara
Yahan Main Ajnabi Hoon (2)
Main Jo Hoon Bas Wohi Hoon (2)
Yahan Main Ajnabi Hoon (2)…………

Song: Yahan Main Ajnabi Hoon
Film: Jab Jab Phool Khile (1965)
Singer: Mohammed Rafi
Music Director: Kalyanji-Anandji
Lyricist: Anand Bakshi
Featuring: Nanda, Shashi Kapoor

Lyrics Yahan Main Ajjabi Hoon from Jab Jab Phool Khile (1965)

Lyrics in Hindi | Yahan Main Ajnabi Hoon | Jab Jab Phool Khile (1965)

कभी पहले देखा नहीं ये समां
ये मैं भूल से
आ गया हूँ कहाँ
यहाँ मैं अजनबी हूँ (2)
मैं जो हूँ बस वही हूँ (2)
यहॉँ मैं अजनबी हूँ (2)…………

Songs Starting from “Y”

कहाँ शाम-ओ-सहर ये
कहाँ दिन रात मेरे
बहुत रुसवा हुए हैं
यहां जज़्बात मेरे
नयी तहज़ीब है ये
नया है ये ज़माना
मगर मैं आदमी हूँ
वोहि सदियों पुराना
मैं क्या जानूं ये बातें
ज़रा इन्साफ करना
मेरी गुस्ताखियों को
ख़ुदारा माफ़ करना
यहाँ मैं अजनबी हूँ (2)…………

Top 100 Songs of Anand Bakshi

तेरी बाँहों में देखूं
सनम गैरों की बाँहें
मैं लाऊंगा कहाँ से
भला ऐसी निगाहें
ये कोई रक्स होगा
कोई दस्तूर होगा
मुझे दस्तूर ऐसा
कहाँ मंज़ूर होगा
भला कैसे ये मेरा
लहू हो जाए पानी
मैं कैसे भूल जाऊं
मैं हूँ हिन्दुस्तानी
यहाँ मैं अजनबी हूँ (2)…………

Top 100 Composition of Kalyanji-Anandji

मुझे भी है शिकायत
तुझे भी तो गिला है
यही शिकवे हमारी
मोहब्बत का सिला है
कभी मगरिब से मशरिक
मिला है जो मिलेगा
जहाँ का फूल है जो
वहीँ पे वो खिलेगा
तेरे ऊंचे महल में
नहीं मेरा गुज़ारा
मुझे याद आ रहा है
वो छोटा सा शिकारा
यहाँ मैं अजनबी हूँ (2)
मैं जो हूँ बस वही हूँ (2)
यहां मैं अजनबी हूँ (2)…………

गीत: यहां मैं अजनबी हूँ
फिल्म: जब जब फूल खिले (1965)
गायक: मोहम्मद रफ़ी
संगीतकार: कल्याणजी-आनंदजी
गीतकार: आनंद बक्शी
कलाकार: नंदा, शशि कपूर

Spread the love

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here