Lyrics Wo Pari Kahaan Se Laoon

0
774

Lyrics in English | Wo Pari Kahaan Se Laoon | Pehchan (1970) | Manoj Kumar

Wo Pari Kahaan Se Laoon
Teri Dulhan Jise Banaoon
Ki Gori Koyi
Pasand Na Aaye Tujh Ko
Ki Chhori Koyi
Pasand Na Aaye Tujh Ko
Wo Pari Kahaan Se Laoon
Teri Dulhan Jise Banaoon
Ki Gori Koyi
Pasand Na Aaye Tujh Ko
Ki Chhori Koyi
Pasand Na Aaye Tujh Ko
Wo Pari Kahaan Se Laoon
Teri Dulhan Jise Banaoon
Ki Gori Koyi
Pasand Na Aaye Tujh Ko
Ki Chhori Koyi
Pasand Na Aaye Tujh Ko………….

Ye To Meri Hai Saheli
Dilwaali Albeli
Jaise Motiya Chameli
Jaise Pyar Ki Paheli
Solah Saal Ki Umar
Koka Kole Si Kamar
Ratti Bhar Bhi Kasar
Kahin Aaye Na Nazar
Kuchh Hua Hai Asar
Gol Joode Me Ye Veni
Aur Veni Me Ye Tehni
Kaise Joodiyon Se Ped Ugaaye
Ye Ganga Raam Ki Samajh Me Na Aaye

Wo Pari Kahaan Se Laoon
Teri Dulhan Jise Banaoon
Ki Gori Koyi
Pasand Na Aaye Tujh Ko
Ki Chhori Koyi
Pasand Na Aaye Tujh Ko………….

Antakshari Songs from “W”

Aankh Jis Ki Hai Billi
Naam Us Ka Hai Lilli
Aise Kajre Ki Dhaar
Jaise Teekhi Talwaar
Dekh Hothon Ka Ye Rang
Dekh Chalne Ka Dhang
Kate Angrezi Baal
Baandha Reshmi Rumaal
Bolo Kya Hai Khayaal
Ise Jab Liya Tak
Mera Rung Hua Fuq
Chhori Ho Ke Ye Hajaamat Karaaye
Ye Ganga Raam Ki Samajh Me Na Aaye

Wo Pari Kahaan Se Laoon
Teri Dulhan Jise Banaoon
Ki Gori Koyi
Pasand Na Aaye Tujh Ko
Ki Chhori Koyi
Pasand Na Aaye Tujh Ko………….

Naam Us Ka Kamal
Jaise Ganne Ki Fasal
Jaise Khila Hai Gulab
Dekh Pooa Hai Panjab
Dekh Roop Ki Umang
Jaie Hirni Ka Ang
Jaise Meethi Ho Khajoor
Aisa Mukhde Pe Noor
Bol Hai Manjoor
Ye To Naache Chham Chham
Mera Nikle Hai Dum
Ise Bhaangda Kaun Nachaaye
Ye Ganga Raam Ki Samajh Me Na Aaye

Wo Pari Kahaan Se Laoon
Teri Dulhan Jise Banaoon
Ki Gori Koyi
Pasand Na Aaye Tujh Ko
Ki Chhori Koyi
Pasand Na Aaye Tujh Ko………….

Manoj Kumar and Shankar-Jaikishan Songs

Ye To Sindh Se Hai Aayi
Kari B.A. Ki Padhaayi
Tang Kurta Payjaama
Ye To Chhokari Hungaama
Jaise Titli Ke Ang
Jaise Udti Patang
Jaise Koyal Ki Kook
Jaise Khile Khushboo
Kahti I Love You
Hey Prabhu (2)
Tu Hi Tu (2)
Aise Nakhre Kaun Uthaaye
Ye Ganga Raam Ki Samajh Me Na Aaye

Wo Pari Kahaan Se Laoon
Teri Dulhan Jise Banaoon
Ki Gori Koyi
Pasand Na Aaye Tujh Ko
Ki Chhori Koyi
Pasand Na Aaye Tujh Ko………….

Na Ye Dil Ki Hai Chhoti
Na Ye Pyar Ki Hai Khoti
Zara Ho Gayi Hai Moti
Tabhi Lagti Hai Chhoti
Dekh Is Ki Muscle
Ghee Khaati Hai Asal
Tere Kheton Me Ye Jaaye
Tere Hal Bhi Chalaaye
Tere Bade Kaam Aaye
Mujhe Karo Na Hairaan
Ye To Lage Pahelwaan
Ise Kasrat Kaun Karaaye
Ye Ganga Raam Ki Samajh Me Na Aaye

Wo Pari Kahaan Se Laoon
Teri Dulhan Jise Banaoon
Ki Gori Koyi
Pasand Na Aaye Tujh Ko
Ki Chhori Koyi
Pasand Na Aaye Tujh Ko………….

Chhodo Ye To Hai Naadan
Kare Sab Ko Hairaan
Nahi Samjhega Pyar
Bilkul Hai Ganwaar
Ise Rehne Do Kanwaara
Phirne Do Maara Maara
Aao Hum Sab Jaaye
Maja Is Ko Chakhaaye
Hosh Is Ke Udaaye
Ye Hoth Jab Khole
Baar Baar Yahi Bole
Ganga Raam Ki Samjh Me Na Aaye
Ye Ganga Raam Ki Samaj…………..

Song: Wo Pari Kahaan Se Laoon
Film: Pehchan (1970)
Singer: Mukesh, Suman Kalyanpur, Sharda
Music Director: Shankar-Jaikishan
Lyricist: Verma Malik
Featuring: Manoj Kumar

Lyrics in Hindi | Wo Pari Kahaan Se Laoon | Pehchan (1970) | Mukesh |

वो परी कहाँ से लाऊँ
तेरी दुल्हन जिसे बनाऊँ
की गोरी कोई
पसंद ना आये तुझ को
के छोरी कोई
पसंद ना आये तुझ को
वो परी कहाँ से लाऊँ
तेरी दुल्हन जिसे बनाऊँ
की गोरी कोई
पसंद ना आये तुझ को
के छोरी कोई
पसंद ना आये तुझ को
वो परी कहाँ से लाऊँ
तेरी दुल्हन जिसे बनाऊँ
की गोरी कोई
पसंद ना आये तुझ को
के छोरी कोई
पसंद ना आये तुझ को………..

ये तो मेरी है सहेली
दिलवाली अलबेली
जैसे मोतिया चमेली
जैसे प्यार की पहेली
सोलह साल की उमर
कोका कोले सी कमर
रत्ती भर भी कसर
कहीं आए ना नज़र
कुछ हुआ है असर
गोल जूड़े में ये वेणी
और वेणी में ये टहनी
कैसे जूडियों से पेड़ उगाए
ये गंगा राम की समझ में ना आये

वो परी कहाँ से लाऊँ
तेरी दुल्हन जिसे बनाऊँ
की गोरी कोई
पसंद ना आये तुझ को
के छोरी कोई
पसंद ना आये तुझ को………..

Best Bollywood Fun Songs of 1970s

आँख जिस की बिल्ली
नाम उसका है लिल्ली
ऐसे कजरे की धार
जैसे तीखी तलवार
देख होंठों का ये रंग
देख चलने का ढंग
कटे अग्रेज़ी बाल
बाँधा रेशमी रुमाल
बोलो क्या है ख़याल
इसे जब लिया तक
मेरा दिल हुआ फ़क
छोरी हो के हजामत कराये
ये गंगा राम की समझ में ना आये

वो परी कहाँ से लाऊँ
तेरी दुल्हन जिसे बनाऊँ
की गोरी कोई
पसंद ना आये तुझ को
के छोरी कोई
पसंद ना आये तुझ को………..

नाम उसका कमल
जैसे गन्ने की फ़सल
जैसे खिला है गुलाब
देख पूरा है पंजाब
देख रुप की उमंग
जैसे हिरनी का अंग
जैसे मीठी हो ख़जूर
ऐसा मुखड़े पे नूर
बोल है मंजूर
ये तो नाचे छम छम
मेरा निकले है दम
इसे भाँगड़ा कौन नचाये
ये गंगा राम की समझ में ना आये

वो परी कहाँ से लाऊँ
तेरी दुल्हन जिसे बनाऊँ
की गोरी कोई
पसंद ना आये तुझ को
के छोरी कोई
पसंद ना आये तुझ को………..

Bollywood Retro Masti Chhedchaad Songs

ये तो सिन्ध से है आई
करी बी.ए. की पढ़ाई
तंग कुरता पायजामा
ये तो छोकरी हंगामा
जैसे तितली के अंग
जैसे उड़ती पतंग
जैसे कोयल की कूक
जैसे खिले खुशबू
कहती आयी लव यू
हे प्रभु (2)
तू ही तू (2)
ऐसे नखरे कौन उठाए
ये गंगा राम की समझ में ना आये

वो परी कहाँ से लाऊँ
तेरी दुल्हन जिसे बनाऊँ
की गोरी कोई
पसंद ना आये तुझ को
के छोरी कोई
पसंद ना आये तुझ को………..

ना ये दिल की है छोटी
ना ये प्यार की है खोटी
ज़रा हो गई है मोटी
तभी लगती है छोटी
देख इस की मसल
घी खाती है असल
तेरे खेतो में ये जाए
तेरे हल भी चलाए
तेरे बड़े काम आये
मुझे करो ना हैरान
ये तो लगे पहलवान
इसे कसरत कौन कराये
ये गंगा राम की समझ में ना आये

वो परी कहाँ से लाऊँ
तेरी दुल्हन जिसे बनाऊँ
की गोरी कोई
पसंद ना आये तुझ को
के छोरी कोई
पसंद ना आये तुझ को………..

छोड़ो ये तो है नादाँ
करे सबको हैराँ
नहीं समझेगा प्यार
बिलकुल है गँवार
इसे रहने दो कंवारे
फिरने दो मारा मारा
आओ हम सब जाए
मजा इस को चखाए
होश इस के उड़ाए
ये होठ जब खोले
बार बार यही बोले
गंगा राम की समझ में ना आये
ये गंगा राम की समझ में ना आये……….

गीत: वो परी कहाँ से लाऊँ
फिल्म: पहचान (1970)
गायक: मुकेश, शारदा, सुमन कल्याणपुर
संगीतकार: शंकर-जयकिशन
गीतकार: वर्मा मालिक
कलाकार: मनोज कुमार

Wo Pari Kahaan Se Laoon-YouTube Video | Pehchan-1970

Lyrics in Hindi | Wo Pari Kahaan Se Laoon from Pehchan (1970)
Spread the love

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here