Lyrics Tum To Thehre Pardesi

0
1294

Here are the song lyrics “Tum To Thehre Pardesi Saath Kya Nibhaoge” is a Short Video released in 2012 on YouTube. Manoj Sharma has directed the video.

Altaf Raja sang this song beautifully. Zaheer Alam penned the Song. Mohd. Shafi Niyazi composed Music for the Song.

Lyrics in English | Tum To Thehre Pardesi | Altaf Raja

Tum To Thehre Pardesi (2)
Saath Kya Nibahaaoge
Tum To Thehre Pardesi
Saath Kya Nibahaaoge
Tum To Thehre Pardesi
Saath Kya Nibahaaoge

Tum To Thehre Pardesi
Saath Kya Nibahaaoge
Tum To Thehre Pardesi
Saath Kya Nibahaaoge

Tum To Thehre Pardesi
Saath Kya Nibahaaoge
Subaha Pehli (2)
Subaha Pehli Gaadi Se
Ghar Ko Laut Jaaoge
Subaha Pehli Gaadi Se
Ghar Ko Laut Jaaoge

Tum To Thehre Pardesi
Saath Kya Nibahaaoge………….

Jab Tumhen Akele Me
Meri Yaad Aayegi
Jab Tumhen Akele Me
Meri Yaad Aayegi

Khichen Khichen Hue Rahten Ho
Kyoon
Khichen Khichen Hue Rahten Ho
Dhyan Kis Ka Hai
Zara Batao To
Ye Imtehaan Kis Ka Hai
Hamen Bhula Do
Magar Ye To Yaad Hi Hoga
Hamen Bhula Do
Magar Ye To Yaad Hi Hoga
Nayi Sadak Pe Puraana Makaan
Kis Ka Hai
Jab Tumhen Akele Me
Meri Yaad Aayegi

Jab Tumhen Akele Me
Meri Yaad Aayegi
Aansuon Ki (2)
Aansuon Ki Baarish Me
Aye Tum Bhi Bheeg Jaaoge
Aansuon Ki Baarish Me
Tum Bhi Bheeg Jaaoge

Tum To Thehre Pardesi
Saath Kya Nibahaaoge………….

Songs Starting from “Tum”

Gham Ki Dhoop Me Dil Ki
Hasraten Na Jal Jaaye
Gham Ki Dhoop Me Dil Ki
Hasraten Na Jal Jaaye

Tujh Ko
Aye
Tujh Ko Dekhenge Sitaaren
To Ziya Maangenge
Tujh Ko
Dekhenge Sitaaren
To Ziya Maangenge
Aur Pyaase Teri Zulfon Se Ghata Maangenge
Apne Kaandhe Se
Duppata Na Sarkne Dena
Warna Boodhe Bhi
Jawaani Ki Dua Maangenge
Imaan Se
Gham Ki Dhoop Me Dil Ki
Hasraten Na Jal Jaaye

Gham Ki Dhoop Me Dil Ki
Hasraten Na Jal Jaaye
Gesuon Ke (2)
Gesuon Ke Saaye Me
Kab Hamen Sulaaoge
Gesuon Ke Saaye Me
Kab Hamen Sulaaoge

Tum To Thehre Pardesi
Saath Kya Nibahaaoge………….

Mujh Ko Qatl Kar Daalo
Shauk Se Magar Socho
Mujh Ko Qatl Kar Daalo
Shauk Se Magar Socho

Is Shehar-E-Namuraad Ki
Izzat Karega Kaun
Arey Hum Bi Chale Gaye
To Mohabbat Karega Kaun
Is Ghar Ki Dekhbhaal Ko
Viraaniyaan To Ho
Is Ghar Ki Dekhbhaal Ko
Viraaniyaan To Ho
Jaale Hata Diye To
Hifaazat Karega Kaun
Mujh Ko Qatl Kar Daalo
Shauk Se Magar Socho

Mujh Ko Qatl Kar Daalo
Shauk Se Magar Socho
Mere Baad (2)
Mere Baad Tum Kis Par
Ye Bijliyaan Giraaoge
Mere Baad Tum Kis Par
Bijliyaan Giraaoge

Tum To Thehre Pardesi
Saath Kya Nibahaaoge………….

Remake of Tum To Thehre Pardesi

Yoon To Zindagi Apni
Maikade Me Gujri Hai
Yoon To Zindagi Apni
Maikade Me Gujri Ha
i
Ashkon Me Hus-O-Rang
Samota Raha Hoon Main
Ashkon Me Hus-O-Rang
Samota Raha Hoon Main
Aanchal Kisi Ka Thaak Ke
Rota Raha Hoon Main
Nikhra Hai Ja Ke Ab Kahin
Chehra Shahur Ka
Nikhra Hai
Ja Ke Ab Kahin
Chehra Shahur Ka
Barson Ise Sharaab Se
Dhota Raha Hoon Main
Yoon To Zindagi Apni
Maikade Me Gujri Hai

Behki Hui Bahaar Ne
Peena Sikha Diya
Badmast Bark-O-Baar Ne
Peena Sikha Diya
Peeta Hoon Is Garaz Se Ke
Jeena Hain Chaar Din
Peeta Hoon
Is Garaz Se Ke
Jeena Hain Chaar Din
Marne Ke Intzaar Ne
Peena Sikha Diya
Yoon To Zindagi Apni
Maikade Me Gujri Hai

Yoon To Zindagi Apni
Maikade Me Gujri Hai
In Nasheeli (2)
In Naseeili Aankhon Se
Are Kab Hamen Pilaaoge
I
n Naseeili Aankhon Se
Kab Hamen Pilaaoge

Tum To Thehre Pardesi
Saath Kya Nibahaaoge………….

A to Z Non Filmy Songs

Kya Karoge Tum Aakhir
Kabra Par Meri Aa Kar
Kya Karoge Tum Aakhir
Kabra Par Meri Aa Kar

Kya Karoge Tum Aakhir
Kabra Par Meri Aa Kar
Kyonki
Jab Tum Se Itefaakan (2)
Meri Nazar Mili Thi
Ab Yaad Aa Raha Hai
Shaayad Wo January Thi
Tum Yoon Mili Dubara
Phir Maah-E-February Me
Jaise Ke Hamsafar Ho
Tum Raahen Zindagi Me
Kitna Haseen Zamaana
Aaya Tha March Le Kar
Raah-E-Wafa Pe Thi Tum
Waadon Ki Torch Le Kar
Baandha Jo Ahad-E-Ulfat
April Chal Raha Tha
Duniya Badal Rahi Thi
Mausam Badal Raha Tha
Lekin Mai Jab Aayi
Jalne Laga Zamaana
Har Shaks Ki Zabaan Par
Tha Bas Yahi Fasaana
Duniya Ke Dar Se Tum Ne
Badli Thi Jab Nigaahen
Tha June Ka Mahina
Lab Pe Thi Garm Aanhen
Jully Me Jo Tum Ne
Ki Baat-Cheet Kuchh Kam
They Aasmaan Pe Baadal
Aur Meri Aankhen Purnam
Maah-E-August Me Jab
Barsaat Ho Rahi Thi
Bas Aansuon Baarish
Din Raat Ho Rahi Thi
Kuchh Yaad Aa Raha Hai
Wo Maah Tha Sitamber
Bheja Tha Tum Ne Mujh Ko
Tark-E-Wafa Ka Letter
Tum Gair Ho Rahi Thi
October Aa Gaya Tha
Duniya Badal Chuki Thi
Mausam Badal Chuka Tha
Jab Aa Gaya November
Aaisi Bhi Raat Aayi
Mujh Se Tumhen Chhudaane
Saj Kar Baraat Aayi
Be-Kaif Tha December
Jazbaat Mar Chuke They
Mausam Tha Sard Us Me
Armaan Bikhar Chuke They
Lekin Ye Kya Bataoon
Ab Haal Doosra Hai

Lekin Ye Kya Bataoon
Ab Haal Doosra Hai

Lekin Ye Kya Bataoon
Ab Haal Doosra Hai

Lekin Ye Kya Bataoon
Ab Haal Doosra Hai
Are Wo Saal Doosra Tha
Ye Saal Dosra Hai
Wo Saal Doosra Tha
Ye Saal Dosra Hai

Kya Karoge Tum Aakhir (2)
Kabra Par Meri Aa Kar
Thodi Der (2)
Thodi Der Ro Loge
Aur Bhool Jaaoge
Thodi Der Ro Loge
Aur Bhool Jaaoge
Thodi Der Ro Loge
Aur Bhool Jaaoge

Tum To Thehre Pardesi
Saath Kya Nibahaaoge
Tum To Thehre Pardesi
Saath Kya Nibahaaoge

Subaha Pehli Gaadi Se
Ghar Ko Laut Jaaoge
Subaha Pehli Gaadi Se
Ghar Ko Laut Jaaoge
Subaha Pehli Gaadi Se
Ghar Ko Laut Jaaoge………….

Song: Tum To Thehre Pardesi
Film: Non Filmy
Singer: Altaf Raja
Music Director: Mohd. Shafi Niyazi
Lyricist: Zaheer Alam
Additional Lyrics: Ustad Rampur
Featuring: Altaf Raja
Video Director: Manoj Sharma

Lyrics in Hindi | Tum To Thehre Pardesi | Altaf Raja

तुम तो ठहरे परदेसी (2)
साथ क्या निभाओगे
तुम तो ठहरे परदेसी
साथ क्या निभाओगे

तुम तो ठहरे परदेसी
साथ क्या निभाओगे

तुम तो ठहरे परदेसी
साथ क्या निभाओगे
तुम तो ठहरे परदेसी
साथ क्या निभाओगे

तुम तो ठहरे परदेसी
साथ क्या निभाओगे
सुबह पहली (2)
सुबह पहली गाड़ी से
घर को लौट जाओगे
सुबह पहली गाड़ी से
घर को लौट जाओगे

तुम तो ठहरे परदेसी
साथ क्या निभाओगे………..

जब तुम्हें अकेले में
मेरी याद आएगी
जब तुम्हें अकेले में
मेरी याद आएगी

खिंचे खिंचे हुए रहते ह
क्यूँ
खिंचे खिंचे हुए रहते हो
ध्यान किस का है
ज़रा बताओ तो
ये इम्तेहान किस का है
हमें भुला दो
मगर ये तो याद ही होगा
हमें भुला दो
मगर ये तो याद ही होगा
नई सड़क पे पुराना मकान
किस का है
जब तुम्हें अकेले में
मेरी याद आएगी

जब तुम्हें अकेले में
मेरी याद आएगी
आँसुओं की (2)
आँसुओं की बारिश में
ए तुम भी भीग जाओगे
आँसुओं की बारिश में
तुम भी भीग जाओगे

तुम तो ठहरे परदेसी
साथ क्या निभाओगे………..

Antakshari Songs from “T”

ग़म की धूप में दिल की
हसरतें न जल जायें
ग़म की धूप में दिल की
हसरतें न जल जायें

तुझ को

तुझ को देखेंगे सितारे
तो ज़िया माँगेंगे
तुझ को
देखेंगे सितारे
तो ज़िया माँगेंगे
और प्यासे तेरी जुल्फों से घटा
माँगेंगे
अपने कांधे से
दुपट्टा ना सरकने देना
वरना बूढ़े भी
जवानी की दुआ माँगेंगे
ईमान से
ग़म की धूप में दिल की
हसरतें न जल जायें

ग़म की धूप में दिल की
हसरतें न जल जायें
गेसुओं के (2)
गेसुओं के साये में
कब हमें सुलाओगे
गेसुओं के साये में
कब हमें सुलाओगे

तुम तो ठहरे परदेसी
साथ क्या निभाओगे………..

Altaf Raja Songs

मुझ को क़त्ल कर डालो
शौक़ से, मगर सोचो
मुझ को क़त्ल कर डालो
शौक़ से मगर सोचो

इस शहर-ए-नामुराद की
इज़्ज़त करेगा कौन
अरे हम भी चले गए
तो मोहब्बत करेगा कौन
इस घर की देखभाल को
वीरानियाँ तो हों
इस घर की देखभाल को
वीरानियाँ तो हों
जाले हटा दिये तो
हिफ़ाज़त करेगा कौन
मुझ को क़त्ल कर डालो
शौक़ से, मगर सोचो

मुझ को क़त्ल कर डालो
शौक़ से मगर सोचो
मेरे बाद (2)
मेरे बाद तुम किस पर
ये बिजलियाँ गिराओगे
मेरे बाद तुम किस पर
बिजलियाँ गिराओगे

तुम तो ठहरे परदेसी
साथ क्या निभाओगे………..

A to Z Bollywood Songs

यूँ तो ज़िंदगी अपनी
मैकदे में गुज़री है
यूँ तो ज़िंदगी अपनी
मैकदे में गुज़री है

अश्क़ों में हुस्न-ओ-रंग
समोता रहा हूँ मैं
अश्क़ों में हुस्न-ओ-रंग
समोता रहा हूँ मैं
आंचल किसी का थाम के
रोता रहा हूँ मैं
निखरा है जा के अब कहीं
चेहरा शऊर का
निखरा है
जा के अब कहीं
चेहरा शऊर का
बरसों इसे शराब से
धोता रहा हूँ मैं
यूँ तो ज़िंदगी अपनी
मैकदे में गुज़री है

बहकी हुई बहार ने
पीना सिखा दिया
बदमस्त बर्क-ओ-बार ने
पीना सिखा दिया
पीता हूँ इस गरज़ से के
जीना है चार दिन
पीता हूँ
इस गरज़ से के
जीना है चार दिन
मरने के इंतज़ार ने
पीना सीखा दिया
यूँ तो ज़िंदगी अपनी
मैकदे में गुज़री है

यूँ तो ज़िंदगी अपनी
मैकदे में गुज़री है
इन नशीली (2)
इन नशीली आँखों से
अरे कब हमें पिलाओगे
इन नशीली आँखों से
कब हमें पिलाओगे

तुम तो ठहरे परदेसी
साथ क्या निभाओगे………..

A to Z Sad Songs

क्या करोगे तुम आखिर
कब्र पर मेरी आकर
क्या करोगे तुम आखिर
कब्र पर मेरी आकर

क्या करोगे तुम आखिर
कब्र पर मेरी आकर
क्योंकि
जब तुम से इत्तेफ़ाकन (2)
मेरी नज़र मिली थी
अब याद आ रहा है
शायद वो जनवरी थी
तुम यूँ मिलीं दुबारा
फिर माह-ए-फ़रवरी में
जैसे कि हमसफ़र हो
तुम राह-ए-ज़िंदगी में
कितना हसीं ज़माना
आया था मार्च ले कर
राह-ए-वफ़ा पे थीं तुम
वादों की टोर्च ले कर
बाँधा जो अहद-ए-उल्फ़त
अप्रैल चल रहा था
दुनिया बदल रही थी
मौसम बदल रहा था
लेकिन मई जब आयी
जलने लगा ज़माना
हर शख्स की ज़बाँ पर
था बस यही फ़साना
दुनिया के डर से तुम ने
बदली थीं जब निगाहें
था जून का महीना
लब पे थीं गर्म आहें
जुलाई में जो तुम ने
की बात-चीत कुछ कम
थे आसमाँ पे बादल
और मेरी आँखें पुरनम
माह-ए-अगस्त में जब
बरसात हो रही थी
बस आँसुओं की बारिश
दिन रात हो रही थी
कुछ याद आ रहा है
वो माह था सितम्बर
भेजा था तुम ने मुझ को
तर्क़-ए-वफ़ा का लेटर
तुम गैर हो रही थीं
अक्टूबर आ गया था
दुनिया बदल चुकी थी
मौसम बदल चुका था
जब आ गया नवम्बर
ऐसी भी रात आई
मुझ से तुम्हें छुड़ाने
सज कर बारात आई
बेक़ैफ़ था दिसम्बर
जज़्बात मर चुके थे
मौसम था सर्द उस में
अरमाँ बिखर चुके थे
लेकिन ये क्या बताऊँ
अब हाल दूसरा है
लेकिन ये क्या बताऊँ
अब हाल दूसरा है
लेकिन ये क्या बताऊँ
अब हाल दूसरा है

लेकिन ये क्या बताऊँ
अब हाल दूसरा है
अरे वो साल दूसरा था
ये साल दूसरा है
वो साल दूसरा था
ये साल दूसरा है

क्या करोगे तुम आखिर (2)
कब्र पर मेरी आ कर
थोड़ी देर (2)
थोड़ी देर रो लोगे
और भूल जाओगे
थोड़ी देर रो लोगे
और भूल जाओगे
थोड़ी देर रो लोगे
और भूल जाओगे

तुम तो ठहरे परदेसी
साथ क्या निभाओगे
तुम तो ठहरे परदेसी
साथ क्या निभाओगे

सुबह पहली गाड़ी से
घर को लौट जाओगे
सुबह पहली गाड़ी से
घर को लौट जाओगे
सुबह पहली गाड़ी से
घर को लौट जाओगे………..

गीत: तुम तो ठहरे परदेसी
फिल्म: गैर फ़िल्मी
गायक: अल्ताफ राजा
संगीतकार: मोहम्मद शफी नियाज़ी
गीतकार: ज़हीर आलम
एडिशनल लिरिक्स: उस्ताद रामपुर
निर्देशक: मनोज शर्मा

Tum To Thehre Pardesi-YouTube Video | Altaf Raja

Lyrics Tum To Thehre Pardesi | Altaf Raja
Spread the love

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here