Lyrics Sar Se Sar Ke Sar Ke Chunariya

0
841

Lyrics in English | Sar Se Sar Ke Sar Ke Chunariya | Silsila (1981) | Jaya Bhaduri | Shashi Kapoor

Sar Se Sar Ke
Sar Ke Chunariya
Laaj Bhari Ankhiyon Me
Sar Se Sar Ke
Sar Ke Chunariya
Laaj Bhari Ankhiyon Me
Ho Maiyya Gaaye Sajan
Behana Ho Ke Magan
Naache Sakhiyon Me

Naino Me Nindiya
Nindiya Me Sapne
Sapno Me Saajan
Jab Se Basaa
Bahaaren Aayee Jeewan Me
Nayee Halchal Hai Tan Man Me
Ik Roop Basaa Hai
Ankhiyon Me Ho
Sar Se Sar Ke
Sar Ke Chunariya
Laaj Bhari Ankhiyon Me…………

Songs Starting from “S”

Kuchh Lamhen
Jeewan Ke Chura Le
Saanson Ki
Ye Aag Bujha Le
Duniya Se Door Nayee Duniya Basaa Le

Jab Se Mili Hain
Tujh Se Nigaahen
Jadoo Ye Kaisa
Mujh Pe Hua
Ke Dil Jab Tanha Lagta Hai
Mujhe Kuchh Aisa Lagta Hai
Tu Jhaankh Raha Hai
Ankhiyon Me Ho
Sar Se Sar Ke
Sar Ke Chunariya
Laaj Bhari Ankhiyon Me…………

Top 25 Songs Composed by Shiv-Hari

Aaj Ka Har
Ik Pal Sundar Hai
Kal Kya Ho
Kis Ko Ye Khabar Hai
Lamba Safar Zindgi Muqtasar Hai

Dar Lag Raha Hai
Kya Jaane Kya Ho
Dil Tujh Ko Maine
Jab Se Diya
Udee Hain Neenden Aankhon Se
Teri Aisi Hi Baaton Se
Badanaam Hui Hoon
Sakhiyon Me Ho
Sar Se Sar Ke
Sar Ke Chunariya
Laaj Bhari Ankhiyon Me
Ho Maiyya Gaaye Sajan
Behana Ho Ke Magan
Naache Sakhiyon Me

Naino Me Nindiya
Nindiya Me Sapne
Sapno Me Saajan
Jab Se Basa
Bahaaren Aayee Jeewan Me
Nayee Halchal Hai Tan Man Me
Ik Roop Basaa Hai
Ankhiyon Me Ho
Sar Se Sar Ke
Sar Ke Chunariya
Laaj Bhari Ankhiyon Me…………

Song: Sar Se Sar Ke Sar Ke Chunariya
Film: Silsila (1981)
Singer: Kishore Kumar, Lata Mangeshkar
Music Director: ShivHari
Lyricist: Hasan Kamal
Featuring: Jaya Bachchan, Shashi Kapoor

Lyrics Sar Se Sar Ke Sar Ke Chunariya from Silsila (1981)

Lyrics in Hindi | Sar Se Sar Ke Sar Ke Chunariya | Silsila (1981) | Jaya Bhaduri | Shashi Kapoor

सर से सर के
सर के चुनरिया
लाज भरी अँखियों में
सर से सर के
सर के चुनरिया
लाज भरी अँखियों में
हो मैया गाये सजन
बहना हो के मगन
नाचे सखियों में

नैनो में निंदिया
निंदिया में सपने
सपनो में साजन
जब से बसा
बहारें आयी जीवन में
नयी हलचल है तन मन में
इक रूप बसा है
अँखियों में हो
सर से सर के
सर के चुनरिया
लाज भरी अँखियों में …………

100 Solo Songs of Lata Mangeshkar

कुछ लम्हें
जीवन के चुरा ले
साँसों की
ये आग बुझा ले
दुनिया से दूर नयी दुनिया बसा ले

जब से मिली हैं
तुझ से निगाहें
जादू ये कैसा
मुझ पे हुआ
के दिल जब तनहा लगता है
मुझे कुछ ऐसा लगता है
तू झाँख रहा है
अँखियों में हो
सर से सर के
सर के चुनरिया
लाज भरी अँखियों में…………

Bollywood Songs of 1981

आज का हर
इक पल सुन्दर है
कल क्या हो
किस को ये खबर है
लम्बा सफर ज़िंदगी मुक्तसर है

डर लग रहा है
क्या जाने क्या हो
दिल तुझ को मैंने
जब से दिया
उड़ी हैं नींदें आँखों से
तेरी ऐसी ही बातों से
बदनाम हुई हूँ
सखियों में हो
सर से सर के
सर के चुनरिया
लाज भरी अँखियों में
हो मैया गाये सजन
बहना हो के मगन
नाचे सखियों में

नैनो में निंदिया
निंदिया में सपने
सपनो में साजन
जब से बसा
बहारें आयी जीवन में
नयी हलचल है तन मन में
इक रूप बसा है
अँखियों में हो
सर से सर के
सर के चुनरिया
लाज भरी अँखियों में…………

गीत: सर से सर के सर के चुनरिया
फिल्म: सिलसिला (1981)
गायक: किशोर कुमार, लता मंगेशकर
संगीतकार: शिवहरी
गीतकार: हसन कमल
कलाकार: जया बच्चन, शशि कपूर

Spread the love

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here