Lyrics Rut Hai Milan Ki

0
1037

Lyrics in English | Rut Hai Milan Ki Saathi Mere Aa Re | Mela (1971)

O Rut Hai Milan Ki
Saathi Mere Aa Re
Rut Hai Milan Ki
Saathi Mere Aa Re
Mohe Kahin Le Chal
Baahon Ke Sahaare
Baghon Me Kheton Me Nadiya Kinaare
Rut Hai Milan Ki
Saathi Mere Aa Re

Ho Koyi Sajanva Aa Ja Tere Bina
Thandi Hawa Sahi Na Jaaye
Aa Ja O Aa Ja
Rut Hai Milan Ki
Saathi Mere Aa Re
Mohe Kahin Le Chal
Baahon Ke Sahaare
Baghon Me Kheton Me Nadiya Kinaare
Rut Hai Milan Ki
Saathi Mere Aa Re…………

Best Duets of Mohammed Rafi and Lata Mangeshkar

O Jaise Rut Pe
Chhaaye Hariyaali
Gehari Hoye Mukh Pe
Rangat Neha Ki
Kheton Ke Sang
Jhoome Pawan Me
Phulva Sapno Ke
Daali ArAmma Ki
Tere Siva Kachhu
Soojhe Naahi Ab To Saanware

Rut Hai Milan Ki
Saathi Mere Aa Re
Mohe Kahin Le Chal
Baahon Ke Sahaare
Haan Baghon Me Kheton Me
Nadiya Kinaare
Rut Hai Milan Ki
Saathi Mere Aa Re…………

All Time Best Hindi Songs

O Oye Sajaniya Jaan Le Le Koyee Mose
Ab To Laage Naina Tose
Aa Ja O Aa Ja
O Man Kehta Hai
Duniya Taj Ke
Jaani Bas Jaoon
Teri Aankhon Me

Aur Main Gori
Mehki Mehki
Ghul Ke Reh Jaoon
Teri Saanso Me
O Ek Duje Me Yoon Kho Jaaye
Jag Dekha Kare
Rut Hai Milan Ki
Saathi Mere Aa Re

Mohe Kahin Le Chal
Baahon Ke Sahaare
Baghon Me
Kheton Me
Nadiya Kinaare
Rut Hai Milan Ki
Saathi Mere Aa Re
Rut Hai Milan Ki
Saathi Mere Aa Re…………

Song: Rut Hai Milan Ki Saathi Mere Aa Re
Film: Mela (1971)
Singer: Lata Mangeshkar, Mohammed Rafi
Music Director: R. D. Burman
Lyricist: Majrooh Sultanpuri
Featuring: Sanjay Khan, Mumtaz

Lyrics Rut Hai Milan Ki Saathi Mere Aa Re from Mela (1971)

Lyrics in Hindi | Rut Hai Milan Ki Saathi Mere Aa Re | Mela (1971)

ओ रुत है मिलन की
साथी मेरे आ रे
रुत है मिलन की
साथी मेरे आ रे
मोहे कहीं ले चल
बाहों के सहारे
बाग़ों में खेतों में नदिया किनारे
रुत है मिलन की
साथी मेरे आ रे

हो कोई सजनवा आ जा तेरे बिना
ठंडी हवा सही ना जाए
आ जा ओ आ जा
रुत है मिलन की
साथी मेरे आ रे
मोहे कहीं ले चल
बाहों के सहारे
बाग़ों में खेतों में नदिया किनारे
रुत है मिलन की
साथी मेरे आ रे…………

All Time Best Romantic Songs

ओ जैसे रुत पे
छाये हरियाली
गहरी होये मुख पे
रंगत नेहा की
खेतों के संग
झूमे पवन में
फुलवा सपनों के
डाली अरमां की
तेरे सिवा कछु
सूझे नाही अब तो सांवरे

रुत है मिलन की
साथी मेरे आ रे
मोहे कहीं ले चल
बाहों के सहारे
हाँ बाग़ों में खेतों में
नदिया किनारे
रुत है मिलन की
साथी मेरे आ रे…………

Top 50 Romantic Songs of 70’s

ओ ओये सजनिया जान ले ले कोई मोसे
अब तो लागे नैना तोसे
आ जा ओ आ जा
ओ मन कहता है
दुनिया तज के
जानी बस जाऊं
तेरी आँखों में

और मैं गोरी
महकी महकी
घुल के रह जाऊं
तेरी साँसों में
ओ एक दूजे में यूँ खो जाए
जग देखा करे
रुत है मिलन की
साथी मेरे आ रे

मोहे कहीं ले चल
बाहों के सहारे
हाँ बाग़ों में
खेतों में
नदिया किनारे
रुत है मिलन की
साथी मेरे आ रे
रुत है मिलन की
साथी मेरे आ रे…………

गीत: रुत है मिलन की साथी मेरे आ रे
फिल्म: मेला (1971)
गायक: लता मंगेशकर, मोहम्मद रफ़ी
संगीतकार: आर डी बर्मन
गीतकार: मज़रुह सुल्तानपुरी
कलाकार: संजय ख़ान, मुमताज़

Spread the love

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here