Lyrics Raaz Ki Baat Kah Doon To

0
1131

Lyrics in English | Raaz Ki Baat Kah Doon To | Dharma (1973) | Mohammed Rafi, Asha Bhosle

Ye Khushi Ye Mehfilen
Or Jo Naya
Andaaz Hai
Samjhne Waalo
Samjh Lo
Is Me Bhi Ik Raaz Hai
Raaz Ki Baat Kah Doon To
Jaane Mahfil Me
Jaane Mahfil Me Phir Kya Ho
Raaz Ki Baat Kah Doon To
Jaane Mahfil Me Phir Kya Ho
Raaz Khulne Ka Tum Pahle Ho O O
Raaz Khulne Ka Tum Pahle
Zara Anjaam Soch Lo
Ishaaron Ko Agar Samjho
Raaz Ko Raaz Ko Rahne Do
Ishaaron Ko Agar Samjho
Raaz Ko Raaz Ko Rahne Do

Raaz Ki Baat Kah Doon To
Jaane Mahfil Me Phir Kya Ho…………

Antakshari Songs from “R”

Zabaan Pe Baat Jo Aayi
Kabhi Rukti Nahin Hai (2)
Uth Gayi Aankh Jo Ik Baar
Wo Jhukti Nahin Hai
Are Jhukti Nahin Hai
Umeedon Ka Kabhi Na
Saamne Main Khoon Hone Doon
Hakeekat Ko Chhupaungi
To Wo Chhupti Nahin Hai
Jo Barson Se
Chhupi Dil Me
Use Hothon Pe Aane Do
Jo Barso Se
Chhupi Dil Me
Use Hothon Pe Aane Do
Raaz Ki Baat Kah Doon To
Jaane Mahfil
Mahfil Mahfil
Jaane Mahfil Me Phir Kya Ho………..

Uthe Aankhen Jo Mehfil Me
Wo Aankhen Fod Ke Rakh Doon
Badhe Jo Haath To Us Hath Ko
Main Tod Ke Rakh Doon
Meri Jaan Tod Ke Rakh Doon
Jo Nawaakif Hain Mujh Se
Aaj Un Se
Ja Ke Ye Kah Doon
Zubaan Pe Raaz Aaya To
Zubaan Ko Mod Ke Rakh Doon
Khushi Se Koyi Jeeta Hai
Khushi Se Us Ko Jeene Do
Khushi Se Koyi Jeeta Hai
Khushi Se Us Ko Jeene Do
Ishaaron Ko Agar Samjho
Raaz Ko Raaz Ko Rahne Do……….

Best Bollywood Songs of 1973

Usi Ko Chheen Kar Teri
Nazar Se Door Kar Doon
Are Haan Door Kar Doon
Tujhe Main Aahen Bharne Ke Liye
Majboor Kar Doon
Haan Main Majboor Kar Doon
Yahaan Badnaam Kar Doon
Wahaan Mashhoor Kar Doon
Zabaan Khul Jaaye Gar Meri
To Chaknachoor Kar Doon
Zara Afsaane Ka Pahle
Pata Lagne Do Duniya Ko
Zara Afsaane Ka Pahle
Pata Lagne Do Duniya Ko
Raaz Ki Baat Kah Doon To
Jaane Mahfil Me (2)
Jaane Mahfil Me Phir Kya Ho……….

Ye Suraj Chaand Aur Taaren
Chale Mere Issharon Par (2)
Hukumat Hai Meri Dariya
Samandar Aur Kinaaro Par (2)
Main Apne Hathon Se
Is Duniya Ki
Takdeer Likhta Hoon
Magar Fir Taras Aata Hai
Tere Jaise Becharon Par
Nahi Paida Hua Koyi
Jo Roke Meri Raahon Ko
Nahi Paida Hua Koyi
Jo Roke Meri Raahon Ko
Ishaaron Ko Agar Samjho
Raaz Ko Raaz Ko Rahne Do……….

Best of Mohammed Rafi and Asha Bhosle

Tumahri Jaat Kya Hai
Teri Aukaat Kya Hai
Tumhaare Kya Iraade
Ye Pahle Tu Bata De
Husn Ki Maar Buri Hai
Ishq Ki Khaar Buri Hai
Nazar Ka Teer Jo Chhodoon
Teer Ko Aise Todoon
Agar Ghunghat Utha Doon
To Main Aankhen Lada Doon
Kamar Ke Dekh Jhatke
Idhr Bhi Dekh Palat Ke
Tu Mujh Ko Na Pehchaane
Mujhe Tu Bhi Na Jaane
Badan Mera Hai Kundan
Mera Dil Bhi Hai Chandan
Main Chandan Ki Khushbu Hoon
Main Chandan (2)
Main Chandan Hubahu Hoon
Ishaaron Ko
Agar Samjho
Raaz Ko Raaz Ko Rahne Do
Ishaaron Ko
Agar Samjho
Raaz Ko Raaz Ko Rahne Do……….

Song: Raaz Ki Baat Kah Doon To
Film: Dharma (1973)
Singer: Mohammed Rafi, Asha Bhosle
Music Director: Sonik-Omi
Lyricist: Verma Malik
Featuring: Pran, Bindu

Hindi Lyrics-Raaz Ki Baat Kah Doon To | Dharma (1973) | Pran, Bindu

ये ख़ुशी ये महफिलें
और जो नया
अंदाज़ है
समझने वालों
समझ लो
इस में भी इक राज़ है
राज़ की बात कह दूँ तो
जाने महफ़िल में
जाने महफ़िल में फिर क्या हो
राज़ की बात कह दूँ तो
जाने महफ़िल में फिर क्या हो
राज़ खुलने का तुम पहले हो ओ ओ
राज़ खुलने का तुम पहले
जरा अंजाम सोच लो
इशारों को अगर समझो
राज़ को राज़ को रहने दो
इशारों को अगर समझो
राज़ को राज़ को रहने दो

राज़ की बात कह दूँ तो
जाने महफ़िल में फिर क्या हो…………

Top 100 Songs of Verma Malik

ज़ुबाँ पे बात जो बात आयी
कभी रुकती नहीं है (2)
उठ गयी आँख जो इक बार
वो झुकती नहीं है
अरे झुकती नहीं है
उम्मीदों का कभी ना
सामने मैं खून होने दूँ
हकीकत को छुपाऊँगी
तो वो छुपती नहीं है
जो बरसों से
छुपी दिल में
उसे होठों पे आने दो
जो बरसों से
छुपी दिल में
उसे होठों पे आने दो
राज़ की बात कह दूँ तो
जाने महफ़िल
महफ़िल
जाने महफ़िल में फिर क्या हो…………

उठे आँखे जो महफ़िल में
वो आँखे फोड़ के रख दूँ (2)
बढ़े जो हाथ तो उस हाथ को
मैं तोड़ के रख दूँ
मेरी जां तोड़ के रख दूँ
जो नावाकिफ है मुझ से
आज उन से
जा के ये कह दूँ
ज़ुबाँ पे राज़ आया तो
ज़ुबाँको मोड़ के रख दूँ
ख़ुशी से कोई जीता है
ख़ुशी से उस को जीने दो
ख़ुशी से कोई जीता है
ख़ुशी से उस को जीने दो
इशारों को अगर समझो
राज़ को राज़ को रहने दो…………….

Best Songs of Pran

उसी को छीन कर तेरी
नज़र से दूर कर दूँ
अरे हाँ दूर कर दूँ
तुझे मैं आहें भरने के लिए
मजबूर कर दूँ
हाँ मैं मजबूर कर दूँ
यहाँ बदनाम कर दूँ
वहाँ मशहूर कर दूँ
ज़ुबाँ खुल जाये गर मेरी
तो चकना चूर कर दूँ
जरा अफ़साने का पहले
पता लगने दो दुनिया को
जरा अफ़साने का पहले
पता लगने दो दुनिया को
राज़ की बात कह दूँ तो
जाने महफ़िल में (2)
जाने महफ़िल में फिर क्या हो……….

ये सूरज चाँद और तारे
चले मेरे इशारों पर (2)
हकूमत है मेरी दरिया
समंदर और किनारों पर (2)
मैं अपने हाथों से
इस दुनिया की
तकदीर लिखता हूँ
मगर फिर तरस आता है
तेरे जैसे बेचारों पर
नहीं पैदा हुआ कोई
जो रोके मेरी राहों को
नहीं पैदा हुआ कोई
जो रोके मेरी राहों को
इशारों को अगर समझो तो
राज़ को राज़ को रहने दो……….

A to Z Qawwali

तुम्हरी ज़ात क्या है
तेरी औकात क्या है
तुम्हारे क्या इरादे
ये पहले तू बता दे
हुस्न की मार् बुरी है
इश्क़ की ख़ार बुरी है
नज़र का तीर जो छोड़ूँ
तीर को ऐसे तोड़ूँ
अगर घूँघट उठा दूँ
तो मैं आँखें लड़ा दूँ
कमर के देख झटके
इधर भी देख पलट के
तू मुझ को ना पहचाने
मुझे तू भी ना जाने
बदन मेरा है कुंदन
मेरा दिल भी है चन्दन
मैं चन्दन की खुशबु हो
मैं चन्दन (2)
मैं चंदन हूबहु हूँ
इशारों को
अगर समझो
राज़ को राज़ को रहने दो
इशारों को
अगर समझो
राज़ को राज़ को रहने दो……….

गीत: राज़ की बात कह दूँ तो
फिल्म: धर्मा (1973)
गायक: मोहम्मद रफ़ी, आशा भोंसले
संगीतकार: सोनिक-ओमी
गीतकार: वर्मा मालिक
कलाकार: प्राण, बिंदु

Raaz Ki Baat Kah Doon To-YouTube Video | Dharma (1973)

Lyrics Raaz Ki Baat Kah Doon from Dharma (1973)
Spread the love

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here