Lyrics Jeewan Ke Safar Me

0
1001

Jeewan Ke Safar Me Rahi (Munimji-1955) | Lyrics in English

Aa Jeewan Ke Safar Me Raahi
Milte Hai Bichhad Jaane Ko
Aur De Jaate Hain Yaade
Tanhayee Me Tadpaane Ko
Ho O Ho Ho O Ho

Jeewan Ke Safar Me Raahi
Milte Hai Bichhad Jaane Ko
Aur De Jaate Hain Yaade
Tanhayee Me Tadpaane Ko…………

Songs Lyrics from “J”

Ye Roop Ki Daulat Waale
Kab Sunte Hai Dil Ke Naale O O
Ye Roop Ki Daulat Waale
Kab Sunte Hai Dil Ke Naale
Takdeer Na Bas Me Daale
In Ke Kisi Deewane Ko
Jeewan Ke Safar Me Raahi
Milte Hai Bichhad Jaane Ko
Aur De Jaate Hain Yaade
Tanhayee Me Tadpaane Ko…………

100 Best Songs of 50s

Jo In Ki Nazar Se Khele
Dukh Paaye Museebat Jhele
Ho O Ho Ho O Ho
Jo In Ki Nazar Se Khele
Dukh Paaye Museebat Jhele
Phirte Hai Ye Sab Albele
Dil Le Ke Mukar Jaane Ko
Jeewan Ke Safar Me Raahi
Milte Hai Bichhad Jaane Ko
Aur De Jaate Hain Yaade
Tanhayee Me Tadpaane Ko…………

Top 100 Songs of Kishore Kumar

Dil Le Ke Dagaa Dete Hain
Ik Rog Lagaa Dete Hain
Dil Le Ke Dagaa Dete Hain
Ik Rog Lagaa Dete Hain
Hans Hans Ke Jala Dete Hai
Ye Husn Ke Parwaane Ko
Jeewan Ke Safar Me Raahi
Milte Hai Bichhad Jaane Ko
Aur De Jaate Hain Yaade
Tanhayee Me Tadpaane Ko…………

Song: Jeewan Ke Safar Me Raahi
Film: Munimji (1955)
Singer: Kishore Kumar
Music Director: S. D. Burman
Lyricist: Sahir Ludhiyanvi
Featuring: Dev Anand, Nalini Jaywant

Jeewan Ke Safar Me Rahi (Munimji-1955) Lyrics

Jeewan Ke Safar Me Rahi (Munimji-1955) Lyrics in Hindi

आ जीवन के सफर में राही
मिलते है बिछड़ जाने को
और दे जाते हैं यादें
तन्हाई में तड़पाने को
हो ओ हो हो ओ हो

जीवन के सफर में राही
मिलते है बिछड़ जाने को
और दे जाते हैं यादें
तन्हाई में तड़पाने को …………

Top 100 Songs Composed by S D Burman

ये रूप की दौलत वाले
कब सुनते है दिल के नाले ओ ओ
ये रूप की दौलत वाले
कब सुनते है दिल के नाले
तकदीर ना बस में डाले
इन के किसी दीवाने को
जीवन के सफर में राही
मिलते है बिछड़ जाने को
और दे जाते हैं यादें
तन्हाई में तड़पाने को …………

Top 100 Songs Written by Sahir Ludhiyanvi

जो इन की नज़र से खेले
दुःख पाए मुसीबत झेले
हो ओ हो हो ओ हो
जो इन की नज़र से खेले
दुःख पाए मुसीबत झेले
फिरते है ये सब अलबेले
दिल ले के मुकर जाने को
जीवन के सफर में राही
मिलते है बिछड़ जाने को
और दे जाते हैं यादें
तन्हाई में तड़पाने को …………

दिल ले के दगा देते हैं
इक रोग लगा देते हैं
दिल ले के दगा देते हैं
इक रोग लगा देते हैं
हँस हँस के जला देते है
ये हुस्न के परवाने को
जीवन के सफर में राही
मिलते है बिछड़ जाने को
और दे जाते हैं यादें
तन्हाई में तड़पाने को …………

गीत: जीवन के सफर में राही
फिल्म: मुनीमजी (1955)
गायक: किशोर कुमार
संगीतकार: एस डी बर्मन
गीतकार: साहिर लुधियानवी
कलाकार: देव आनंद, नलिनी जयवंत

Spread the love

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here