Lyrics Ishq Fitoori

0
615

Lyrics in English | Ishq Fitoori | Bhavai-2021 | Mohit Chauhan

Dar Khul Gaye Hain
Jannat Ke Fir Se
Udne Lage Hain
Armaan Dil Ke
Dar Khul Gaye Hain
Jannat Ke Fir Se
Udne Lage Hain
Armaan Dil Ke
Udte Parinde
Kayi Baashinde
Gaflat Me Pad Gaye Na
Ishq Fitoori (2)………….

Sawere
Sawere
Kapdon Pe Apne
Chandan Ki Khushbu Ragad Ke
Kadak Dhoop Sar Pe
Chale Hum To Ghar Se
Mohabbat Ki Gaadi Pakad Ke
Sawere
Sawere
Kapdon Pe Apne
Chandan Ki Khushbu Ragad Ke
Kadak Dhoop Sar Pe
Chale Hum To Ghar Se
Mohabbat Ki Gaadi Pakad Ke
Tere Naam Hi Bahar-E-Shariyat
Likhi Zindagi Ki Wasiyat
Tere Naam Hi Bahar-E-Shariyat
Likhi Zindagi Ki Wasiyat
Udte Parinde
Kayi Baashinde
Gaflat Me Pad Gaye Na
Ishq Fitoori (2)………….

Antakshari Songs from “D”

Humm….
Baghon
Bageechon
Me Titli Ka Udna
Gulgunche Khushbu Lutaate
Khule Aasmaan Me
Khili Chandni Hai
Taare Bhi Hain Timtimaate
Baghon
Bageechon
Me Titli Ka Udna
Gulgunche Khushbu Lutaate
Khule Aasmaan Me
Khili Chandni Hai
Taare Bhi Hain Tim Timtimaate
Raton Ki Ye Jagmagahat
Han Chaand Ki Muskuraahat
Raton Ki Ye Jagmagahat
Han Chaand Ki Muskuraahat
Udte Parinde
Kayi Baashinde
Gaflat Me Pad Gaye Na
Ishq Fitoori (2)………….

Song: Ishq Fitoori
Film: Bhavai (2021)
Singer: Mohit Chauhan
Music Director: Shabbir Ahmed
Lyricist: Shabbir Ahmed
Featuring: Pratik Gandhi, Aindrita Ray

Lyrics in Hindi | Ishq Fitoori | Bhavai-2021 | Mohit Chauhan

दर खुल गये हैं
जन्नत के फिर से
उड़ने लगे हैं
अरमान दिल के
दर खुल गये हैं
जन्नत के फिर से
उड़ने लगे हैं
अरमान दिल के
उड़ते परिंदे
कई बाशिंदे
गफलत में पड़ गये ना
इश्क़ फितूरी (2)………….

सवेरे
सवेरे
कपड़ों पे अपने
चंदन की खुशबु रगड़ के
कड़क धूप सर पे
चले हम तो घर से
मोहब्बत की गाड़ी पकड़ के
सवेरे
सवेरे
कपड़ों पे अपने
चंदन की खुशबु रगड़ के
कड़क धूप सर पे
चले हम तो घर से
मोहब्बत की गाड़ी पकड़ के
तेरे नाम ही बहर-ए-शरीयत
लिखी ज़िन्दगी की वसीयत
तेरे नाम ही बहर-ए-शरीयत
लिखी ज़िन्दगी की वसीयत
उड़ते परिंदे
कई बाशिंदे
गफलत में पड़ गये ना
इश्क़ फितूरी (2)………….

Bollywood Songs of 2021

हम्म…
बागों
बगीचों
में तितली का उड़ना
गुलगुन्चे खुशबु लुटाते
खुले आसमाँ में
खिली चाँदनी हैं
तारे भी हैं टिमटिमाते
बागों
बगीचों
में तितली का उड़ना
गुलगुन्चे खुशबु लुटाते
खुले आसमाँ में
खिली चाँदनी हैं
तारे भी हैं टिमटिमाते
रातों की ये जगमगाहट
हैं चाँद की मुस्कराहट
रातों की ये जगमगाहट
हैं चाँद की मुस्कराहट
उड़ते परिंदे
कई बाशिंदे
गफलत में पड़ गये ना
इश्क़ फितूरी (2)………….

गीत: इश्क़ फितूरी
फिल्म: भवई (2021)
गायक: मोहित चौहान
संगीतकार: शब्बीर अहमद
गीतकार: शब्बीर अहमद
कलाकार: प्रतीक गाँधी, ऐंद्रिता रे

Ishq Fitoori-YouTube Video| Bhavai-2021

Lyrics Ishq Fitoori from Bhavai (2021)
Spread the love

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here