Lyrics Humaare Siwa Tumhaare Aur Kitne Deewane Hain

0
672

Lyrics in English | Humaare Siwa Tumhaare Aur Kitne Deewane Hain| Apradh (1972) | Feroz Khan | Mumtaz

Humaare Siwa
Tumhaare Aur
Kitne Deewane Hain
Humaare Siwa
Tumhaare Aur
Kitne Deewane Hain
Humaaare
Haan
Tumhaare Aur
Kitne Thikaane Hai
Kasam Se
Kisi Ko Nahi
Main Jaanati
Achchha
Aur Kisi Ko
Nahi Pahchaanti
Are Chhodo Chhodo
Ye To Bahaane Hain
Humaare Siwa Haan
Tumhaare Aur
Kitne Deewane Hain
Tumhaare Aur
Kitne Thikaane Hai………..

Antakshari Songs from “H”

Khoobsurati Aur Wafa
Dekhi Na Dono
Ek Jagah
Haan Haan
Dekhi Na Dono
Ek Jagah
Hote Hain Mard
Bade Shaki
Baat Hai Ye Bilkul Pakki
Bholi Si
Aati Ho Nazar
Haan Haan
Bholi Si
Aati Ho Nazar
Ho Chanchal Chalaak Magar

Aurat Ka Dil Jaane Nahi
Aap Humen Pahchaane Nahi
Chhodo Chhodo
Hum Bhi Sayaane Hain
Humaare Siwa
Tumhaare Aur
Kitne Deewane Hain
Tumhaare Aur
Kitne Thikaane Hai………..

Romantic Songs of Lata Mangeshkar and Kishore Kumar

Tum Ho Pareshaan
Kis Gham Se
Raaz-E-Dil
Kah Do Hum Se
Haan Haan
Raaz-E-Dil
Kah Do Hum Se

Apni Kaho
Chhodo Meri
Karte Ho Kyon
Hera Pheri
Yaaron Pe Tohmat
Lagaate Nahi
Yaaron Pe Tohmat
Lagaate Nahi
Sab Ko Nishaana
Banaate Nahi

Khud Harjaayi
Bhanwren Ho Tum
Ek Jagah
Kab Thahre Ho Tum
Chhodo Chhodo
Hum To Parwaane Hai
Humaare Siwa Haan
Tumhaare Aur
Kitne Deewane Hain
Tumhaare Aur
Kitne Thikaane Hai

Kasam Se
Kisi Ko Nahi
Main Jaanati
Hummm
Aur Kisi Ko
Nahi Pahchaanti
Are Chhodo Chhodo
Ye To Bahaane Hain
Humaare Siwa
Tumhaare Aur
Kitne Deewane Hain………..

Song: Hamare Siva Tumhare Aur
Film: Apradh (1972)
Singer: Kishore Kumar, Lata Mangeshkar
Music Director : Kalyanji-Anandji
Lyricist: Indeevar
Featuring: Feroz KhanMumtaz

Lyrics in Hindi | Hamare Siva Tumhare Aur | Apradh (1972) | Lata Mangeshkar, Kishore Kumar

हमारे सिवा
तुम्हारे और
कितने दीवाने है
हमारे सिवा
तुम्हारे और
कितने दीवाने है

हमारे
हाँ
तुम्हारे और
कितने ठिकाने है

क़सम से
किसी को नहीं
मै जानती
अच्छा
और किसी को
नहीं पहचानती
अरे छोड़ो छोड़ो
ये तो बहाने है
हमारे सिवा
तुम्हारे और
कितने दीवाने है
तुम्हारे और
कितने ठिकाने है………..

Best Romantic Songs of Mumtaz

खूबसूरती और वफ़ा
देखी ना दोनों
हाँ हाँ
एक जगह
देखी ना दोनों
एक जगह

होते हैं मर्द
बड़े शक्की
बात है ये बिलकुल पक्की
भोली सी
आती हो नज़र
हाँ हाँ
भोली सी
आती हो नज़र
हो चंचल चालक मगर

औरत का दिल जाने नहीं
आप हमें पहचानें नहीं
छोड़ो छोड़ो
हम भी सयाने है
हमारे सिवा
तुम्हारे और
कितने दीवाने है
तुम्हारे और
कितने ठिकाने है………..

Top 50 Songs of Feroz Kumar

तुम हो परेशाँ
किस गम से
राज़ ए दिल
कह दो हम से
हाँ हाँ
राज़ ए दिल
कह दो हम से

अपनी कहो
छोड़ो मेरी
करते हो क्यों
हेरा फेरी
यारों पे तोहमत
लगाते नहीं
यारों पे तोहमत
लगाते नहीं
सब को निशाना
बनाते नहीं

खुद हरजाई
भँवरें हो तुम
एक जगह
कब ठहरे हो तुम
छोड़ो छोड़ो
हम तो परवाने है
हमारे सिवा
तुम्हारे और
कितने दीवाने है
तुम्हारे और
कितने ठिकाने है

क़सम से
किसी को नहीं
मै जानती
हम्म
और किसी को
नहीं पहचानती
अरे छोड़ो छोड़ो
ये तो बहाने है
हमारे सिवा
तुम्हारे और
कितने दीवाने है………..

गीत: हमारे सिवा तुम्हारे और कितने दीवाने हैं
फिल्म: अपराध (1972)
गायक:  किशोर कुमार, लता मंगेशकर
संगीतकार: कल्याणजी-आनंदजी
गीतकार: इंदीवर
कलाकार: फिरोज ख़ानमुमताज़

Hamare Siva Tumhare Aur | Apradh (1972) – YouTube Video

Lyrics Hamare Siva Tumhare Aur from Apradh (1972)
Spread the love

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here