Lyrics Hai Isi Me Pyar Ki Aabroo

0
1126

Lyrics in English | Hai Isi Me Pyar Ki Aabroo | Anpadh (1962)

Hai Isi Me Pyar Ki Aabroo
Wo Jafa Kare Main Wafa Karu
Jo Wafa Bhi Kaam Na Aa Sake
To Wohi Kahe Ke Main Kya Karu
Hai Isi Me Pyar Ki Aabroo………..

Mujhe Gham Bhi Unka Aziz Hai
Ke Unhi Ki Di Hui Cheez Hai
Mujhe Gham Bhi Unka Aziz Hai
Ke Unhi Ki Di Hui Cheez Hai (2)
Yahi Gham hai Ab Meri Zindagi
Ise Kaise Dil Se Juda Karu
Hai Isi Me Pyar Ki Aabroo………..

Jo Na Ban Sake Main Wo Bat Hoon
Jo Na Khatm Ho Main Wo Rat Hoon
Jo Na Ban Sake Main Wo Bat Hoon
Jo Na Khatm Ho Main Wo Rat Hoon (2)
Ye Likha Hai Mere Naseeb Me
Yoon Hi Shamma Ban Ke Jala Karu
Hai Isi Me Pyar Ki Aabroo………..

Na Kisi Ke Dil Ki Hoon Aarzoo
Na Kisi Nazar Ki Hoon Justazu
Na Kisi Ke Dil Ki Hoon Aarzoo
Na Kisi Nazar Ki Hoon Justazu (2)
Main Wo Phool Hoon Jo Udas Ho
Na Bahar Aayee To Kya Karu …………

Hai Isi Me Pyar Ki Aabroo
Wo Jafa Kare Main Wafa Karu
Jo Wafa Bhi Kaam Na Aa Sake
To Wohi Kahe Ke Main Kya Karu
Hai Isi Me Pyar Ki Aabroo………..

Song: Hai Isi Me Pyar Ki Aabroo
Film: Anpadh (1962)
Singer: Lata Mangeshkar
Music Director: Madan Mohan
Lyricist: Raja Mehdi Ali Khan
Featuring: Mala Sinha

ai Isi Me Pyar Ki Aabroo-YouTube Video | Anpadh (1962)

Lyrics in Hindi | Hai Isi Me Pyar Ki Aabroo  | Anpadh

है इसी में प्यार की आबरू
वो जफ़ा करे मैं वफ़ा करुँ
जो वफ़ा भी काम ना आ सके
तो वही काहे के मैं क्या करुँ
है इसी में प्यार की आबरू ………..

मुझे ग़म भी उनका अज़ीज़ है
के उन्ही की दी हुई चीज़ है
मुझे ग़म भी उनका अज़ीज़ है
के उन्ही की दी हुई चीज़ है (2)
यही ग़म है अब मेरी ज़िन्दगी
इसे कैसे दिल से जुड़ा करुँ
है इसी में प्यार की आबरू ………..

जो ना बन सके मैं वो बात हूँ
जो ना ख़त्म हो मैं वो रात हूँ
जो ना बन सके मैं वो बात हूँ
जो ना ख़त्म हो मैं वो रात हूँ (2)
ये लिखा है मेरे नसीब में
यूँ ही शम्मा बन के जला करुँ
है इसी में प्यार की आबरू ………..

ना किसी के दिल की हूँ आरज़ू
ना किसी नज़र की हूँ ज़ुस्तज़ु
ना किसी के दिल की हूँ आरज़ू
ना किसी नज़र की हूँ ज़ुस्तज़ु (2)
मैं वो फूल हूँ जो उदास हो
ना बाहर आयी तो क्या करुँ …………

है इसी में प्यार की आबरू
वो जफ़ा करे मैं वफ़ा करुँ
जो वफ़ा भी काम ना आ सके
तो वही काहे के मैं क्या करुँ
है इसी में प्यार की आबरू …………

गीत: है इसी में प्यार की आबरू
फिल्म: अनपढ़ (1962)
गायक: लता मंगेशकर
संगीतकार: मदन मोहन
गीतकार: राजा मेहदी अली खान
कलाकार: माला सिन्हा

More Songs from Anpadh (1962)

Spread the love

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here