Lyrics Ek Tha Gul Aur Ek Thi Bulbul

0
1018

Lyrics in English | Ek Tha Gul Aur Ek Thi Bulbul | Jab Jab Phool Khile (1965)

Ek Tha Gul Aur Ek Thi Bulbul (2)
Dono Chaman Me Rehte Thai
Hai Ye Kahaani Bilkul Sachchi
Mere Nana Kehte Thai
Ek Tha Gul Aur Ek Thi Bulbul…………

Bulbul Kuchh Aise Gaati Thi
Aise Gaati Thi (2)
Kaise Gaati Thi
Bulbul Kuchh Aise Gaati Thi
Jaise Tum Baaten Karti Ho
Wo Gul Aise Sharmaata Tha
Aise Sharmaata Tha (2)
Kaise Sharmaata Tha
Wo Gul Aise Sharmaata Tha
Jaise Main Ghabra Jaata Hoon
Bulbul Ko Maloom Nahi Tha
Gul Aise Kyon Sharmaata Tha
Wo Kya Jaane Us Ka Naghma
Gul Ke Dil Ko Dhadkaata Tha
Dil Ke Bhed Na Aate Lab Pe
Ye Dil Me Hi Rehte Thai
Ek Tha Gul Aur Ek Thi Bulbul…………

Top 100 Songs of Mohammed Rafi

Phir Kya Hua
Lekin Aakhir Dil Ki Baaten
Aise Kitne Din Chhupti Hain
Ye Wo Kaliyaan Hai Jo Ek Din
Bas Kaante Ban Ke Chubhti Hain
Ek Din Jaan Liya Bulbul Ne
Wo Gul Us Ka Deewana Hai
Tum Ko Pasand Aaya Ho To Boloon
Phir Aage Jo Afsaana Hai
Bolo Na Chup Kyon Ho Gaye
Ek Dooje Ka Ho Jaane Par
Wo Dono Majboor Hue
Un Dono Ke Pyar Ke Kisse
Gulshan Me Mashhoor Hue
Saath Jiyenge Saath Marenge
Wo Dono Ye Kehte Thai
Ek Tha Gul Aur Ek Thi Bulbul………..

Top 100 Songs of Anand Bakshi

Phir Kya Hua
Phir Ek Din Ki Baat Sunaoon
Ek Saiyyaad Chaman Me Aaya
Le Gaya Wo Bulbul Ko Pakad Ke
Aur Deewana Gul Murjhaaya (2)
Shaayar Log Bayaan Karte Hain
Aise Un Ki Judayee Ki Baaten
Gaate Thai Ye Geet Wo Dono
Saiyyan Bina Nahi Katati Raaten (2)
Mast Bahaaron Ka Mausam Tha
Aankh Se Aansu Behte Thai
Ek Tha Gul Aur Ek Thi Bulbul……….

Top 100 Composition of Kalyanji-Anandji

Aati Thi Aawaj Hamesha
Ye Jhilmil Jhilmil Taaron Se
Jiska NAam Mohabbat Hai Wo
Kab Rukti Hai Deewaron Se
Ek Din Aah Gul-O-Bulbul Ki
Us Pinjre Se Ja Takrayee
Toota Pinjra Chhoota Qaidi
Deta Raha Saiyyad Duhayee
Rok Sake Na Us Ko Mil Ke
Saara ZAmmana Saari Khudayee
Gul Saajan Ko Geet Sunaane
Bulbul Bagh Me Wapas Aayee
Raja Bahut Achhi Kahaani Hai
Yaad Sada Rakhna Ye Kahaani
Chahe Jeena Chahe Marna
Tum Bhi Kisi Se Pyar Karo To
Pyar Gul-O-Bulbul Sa Karana (4)…………

Song: Ek Tha Gul Aur Ek Thi Bulbul
Film: Jab Jab Phool Khile (1965)
Singer: Mohammed Rafi
Music Director: Kalyanji-Anandji
Lyricist: Anand Bakshi
Featuring: Nanda, Shashi Kapoor

Lyrics Ek Tha Gul Aur Ek Thi Bulbul from Jab Jab Phool Khile (1965)

Lyrics in Hindi | Ek Tha Gul Aur Ek Thi Bulbul | Jab Jab Phool Khile (1965)

एक था गुल और एक थी बुलबुल (2)
दोनों चमन में रहते थे
है ये कहानी बिलकुल सच्ची
मेरे नाना कहते थे
एक था गुल और एक थी बुलबुल…………

Songs Starting from “E”

बुलबुल कुछ ऐसे गाती थी
ऐसे गाती थी (2)
कैसे गाती थी
बुलबुल कुछ ऐसे गाती थी
जैसे तुम बातें करती हो
वो गुल ऐसे शर्माता था
ऐसे शर्माता था (2)
कैसे शर्माता था
वो गुल ऐसे शर्माता था
जैसे मैं घबरा जाता हूँ
बुलबुल को मालूम नहीं था
गुल ऐसे क्यों शर्माता था
वो क्या जाने उस का नग़मा
गुल के दिल को धड़काता था
दिल के भेद ना आते लब पे
ये दिल में ही रहते थे
एक था गुल और एक थी बुलबुल…………

Top 100 Solo Songs of Mohammed Rafi

फिर क्या हुआ
लेकिन आखिर दिल की बातें
ऐसे कितने दिन छुपती हैं
ये वो कलियाँ है जो एक दिन
बस कांटे बन के चुभती हैं
एक दिन जान लिया बुलबुल ने
वो गुल उस का दीवाना है
तुम को पसंद आया हो तो बोलूँ
फिर आगे जो अफसाना है
बोलो ना चुप क्यों हो गए
एक दूजे का हो जाने पर
वो दोनों मजबूर हुए
उन दोनों के प्यार के किस्से
गुलशन में मशहूर हुए
साथ जियेंगे साथ मरेंगे
वो दोनों ये कहते थे
एक था गुल और एक थी बुलबुल…………

Superhit Songs of 60’s

फिर क्या हुआ
फिर एक दिन की बात सुनाऊँ
एक सैय्याद चमन में आया
ले गया वो बुलबुल को पकड़ के
और दीवाना गुल मुरझाया (2)
शायर लोग बयाँ करते हैं
ऐसे उन की जुदाई की बातें
गाते थे ये गीत वो दोनों
सैय्याँ बिना नहीं कटती रातें (2)
मस्त बहारों का मौसम था
आँख से आंसू बहते थे
एक था गुल और एक थी बुलबुल…………

Superhit Songs of 1965

आती थी आवाज हमेशा
ये झिलमिल झिलमिल तारों से
जिसका नाम मोहब्बत है वो
कब रूकती है दीवारों से
एक दिन आह गुल-ओ-बुलबुल की
उस पिंजरे से जा टकराई
टूटा पिंजरा छूटा क़ैदी
देता रहा सैय्याद दुहाई
रोक सके ना उस को मिल के
सारा ज़माना साड़ी खुदाई
गुल साजन को गीत सुनाने
बुलबुल बाग़ में वापस आयी
राजा बहुत अच्छी कहानी है
याद सदा रखना ये कहानी
चाहे जीना चाहे मरना
तुम भी किसी से प्यार करो तो
प्यार गुल-ओ-बुलबुल सा करना (4)…………

गीत: एक था गुल और एक थी बुलबुल
फिल्म: जब जब फूल खिले (1965)
गायक: मोहम्मद रफ़ी
संगीतकार: कल्याणजी-आनंदजी
गीतकार: आनंद बक्शी
कलाकार: नंदा, शशि कपूर

Spread the love

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here