Lyrcs So Gaya Ye Jahaan

0
847

Lyrics in English | So Gaya Ye Jahaan | Tezaab-1988 | Anil Kapoor | Madhuri Dixit | Chunky Pandey

So Gaya
Ye Jahaan
So Gaya
Aasman
So Gaya
Ye Jahaan
So Gaya
Aasman
So Gayi Hain Saari Manzilen
O Saari Manzilen
So Gaya Hai Rasta
So Gaya
Ye Jahaan
So Gaya
Aasman
So Gayi Hain Saari Manzilen
O Saari Manzilen
So Gaya Hai Rasta
So Gaya
Ye Jahaan
So Gaya
Aasman…………

Songs starting from “S”

Raat Aayi To Wo Jinke Ghar Thay
Wo Ghar Ko Gaye So Gaye
Raat Aayi To Hum Jaise Aawara Phir Nikle
Raahon Mein Aur Kho Gaye
Is Gali
Us Gali
Is Nagar
Us Nagar
Jaayen Bhi To Kahaan
Jaana Chahen Agar
Ho So Gayi Hain Saari Manzilen
Ho Saari Manzilein
So Gaya Hai Rasta
So Gaya
Ye Jahaan
So Gaya
Aasman
So Gaya
Ye Jahaan
So Gaya
Aasman………..

Best Bollywood Songs of 1980s

Kuchh Meri Suno
Kuchh Apni Kaho
Ho Paas To Aise
Chup Na Raho

Hum Paas Bhi Hain
Aur Door Bhi Hain
Azad Bhi Hain
Majboor Bhi Hain
Kyoon Pyar Ka Mausam
Beet Gaya
Kyoon Humse Zamana
Jeet Gaya

Har Ghadi Mera Dil
Gham Ke Ghere Mein Hai
Zindagi Door Tak Ab
Andhere Mein Hai (3)
Ho So Gayi Hain Saari Manzilen
O Saari Manzilen
So Gaya Hai Rasta
So Gaya
Ye Jahaan
So Gaya
Aasman
So Gaya
Ye Jahaan
So Gaya
Aasman…………

Song: So Gaya Ye Jahaan
Film: Tezaab (1988)
Singer: Alka Yagnik, Shabbir Kumar, Nitin Mukesh
Music Director: Laxmikant-Pyarelal
Lyricist: Javed Akhtar
Featuring: Anil Kapoor, Madhuri Dixit, Chunky Pandey

Lyrics in Hindi | So Gaya Ye Jahaan | Tezaab-1988 | Anil Kapoor | Madhuri Dixit | Chunky Pandey

सो गया
ये जहाँ
सो गया
आसमाँ
सो गया
ये जहाँ
सो गया
आसमाँ
सो गईं हैं सारी मंज़िलें
ओ सारी मंज़िलें
सो गया है रस्ता
सो गया
ये जहाँ
सो गया
आसमाँ
सो गईं हैं सारी मंज़िलें
ओ सारी मंज़िलें
सो गया है रस्ता
सो गया
ये जहाँ
सो गया
आसमाँ………..

Best of Javed Akhtar Songs

रात आई तो वो जिनके घर थे
वो घर को गए सो गए
रात आई तो हम जैसे आवारा फिर निकले
राहों में और खो गए
इस गली
उस गली
इस नगर
उस नगर
जाएँ भी तो कहाँ
जाना चाहें अगर
हो सो गईं हैं सारी मंज़िलें
ओ सारी मंज़िलें
सो गया है रस्ता
सो गया
ये जहाँ
सो गया
आसमाँ
सो गया
ये जहाँ
सो गया
आसमाँ………..

Best Songs of 1988

कुछ मेरी सुनो
कुछ अपनी कहो
हो पास तो ऐसे
चुप ना रहो

हम पास भी हैं
और दूर भी हैं
आज़ाद भी हैं
मजबूर भी हैं

क्यूँ प्यार का मौसम
बीत गया
क्यूँ हमसे ज़माना
जीत गया

हर घड़ी मेरा दिल
ग़म के घेरे में है
ज़िन्दगी दूर तक अब
अँधेरे में है (3)
हो सो गईं हैं सारी मंज़िलें
ओ सारी मंज़िलें
सो गया है रस्ता
सो गया
ये जहाँ
सो गया
आसमाँ
सो गया
ये जहाँ
सो गया
आसमाँ………..

गीत: सो गया ये जहाँ
फिल्म: तेज़ाब (1988)
गायक: अलका याग्निक, शब्बीर कुमार, नितिन मुकेश
संगीतकार: लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल
गीतकार: जावेद अख्तर
कलाकार: अनिल कपूर, माधुरी दीक्षित, चंकी पांडे

Spread the love

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here