Durgamati-The Myth

0
663

Hindi Film Durgamati (2020) | Horror, Thriller | Release date – 11 December 2020 | Amazon Prime Video

दुर्गामती (2020) एक बॉलीवुड हॉरर थ्रिलर फिल्म है। फिल्म 11 दिसंबर 2020 से ओटीटी प्लेटफॉर्म अमेज़ॅन प्राइम वीडियो पर स्ट्रीमिंग हो रही है । इससे पहले फिल्म का शीर्षक दुर्गावती था लेकिन 23 नवंबर 2020 को इसे बदलकर दुर्गामती कर दिया गया।

फिल्म अनुष्का शेट्टी स्टारर तेलुगु भाषा की फिल्म भागमथि (2018) का रीमेक है। जी. अशोक ने इस फिल्म को लिखा और निर्देशित किया था | दुर्गमति को भी जी. अशोक ने ही लिखा और निर्देशित किया है।

अक्षय कुमार, भूषण कुमार, कृष्ण कुमार और विक्रम मल्होत्रा ​​ने इस फिल्म का निर्माण किया है। भूमि पेडनेकर, अरशद वारसी और जीशु सेनगुप्ता ने फिल्म में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

दुर्गामती (2020) मूवी प्लॉट

एक ईमानदार राजनीतिक नेता ईश्वर प्रसाद (अरशद वारसी) के रहस्यों को जानने के लिए, पुलिस गुप्त रूप से हत्या के अपराध में जेल में बंद एक अंडर ट्रायल अपराधी चंचल चौहान (भूमि पेडनेकर), जो 10 साल से आईएएस अधिकारी और ईश्वर प्रसाद के सचिव के रूप में काम करता थी, से पूछताछ करने की योजना बनती है ।

चूंकि चंचल एक आईएएस अधिकारी है इसलिए जेल में उस से पूछताछ करने से इस बारे में सबको बता चल जायेगा इसीलिए पुलिस चंचल को अनाधिकारिक रूप से पूछताछ के लिए जेल के अलावा कहीं और रखने की योजना बनती है |

ए सी पी (जीशु सेनगुप्ता) जिसके भाई रोहन (करण कपाड़िया) की हत्या के इलज़ाम में चंचल को गिरफ्तार किया गया है, को चंचल को किसी सुरक्षित स्थान में रखने की जिम्मेदारी दी जाती है |

पुलिस उसे प्रेतवाधित दुर्गामति किले में रखने का फैसला करती है । प्रेतवाधित किले में कई असामान्य और अप्रत्याशित डरावनी घटनाएं घटती है और एक रहस्यमयी बदला लेने वाली कहानी को जन्म देती हैं।

स्टार कास्ट

भूमि पेडेकर
अरशद वारसी
जिशु सेनगुप्ता
माही गिल
• करण कपाड़िया
• धनराज
• अनंत महादेवन

दुर्गामती (2020) पूरी कहानी

एक राजनीतिक रूप से शक्तिशाली राजनीतिक व्यक्ति अपने प्रतिद्वंद्वी ईश्वर प्रसाद (अरशद वारसी) को उखाड़ फेंकना चाहता है जो एक अति ईमानदार राजनेता है। जनता भी उसे दिलों जाँ चाहती है और इसीलिए ईश्वर प्रसाद को किसी गलत तरीके से फँसाया नहीं जा सकता |

प्रतिद्वंद्वी राजनेता ईश्वर प्रसाद को अपनी कठपुतली के रूप में चाहते हैं और इसीलिए वह पुलिस से ईश्वर प्रसाद के छिपे रहस्यों का पता लगाने के लिए कहता है। सीबीआई जॉइंट कमिश्नर (माही गिल) को इस काम को अंजाम देने के कहा जाता है |

दूसरी ओर, पुलिस विभिन्न मंदिरों होने वाली पुरानी और कीमती मूर्तियों की रहस्यमय चोरी को हल करना चाहती है। सीबीआई जॉइंट कमिश्नर को इन चोरियों में ईश्वर प्रसाद के शामिल होने पर संदेह है क्योंकि उनकी उपस्थिति वहाँ हमेशा दिखाई देती है जहाँ भी ये चोरी हुई है।

सीबीआई जॉइंट कमिश्नर की योजना है की रोहन (करण कपाड़िया) की हत्या के इलज़ाम में जेल में बंद एक अंडर ट्रायल अपराधी चंचल चौहान (भूमि पेडनेकर) से पूछताछ करने की क्योंकि वह एक आईएएस अधिकारी थी और ईश्वर प्रसाद के लिए दो बार सचिव का कार्य संभल चुकी थी |

हालांकि, चंचल से जेल में पूछताछ करना संभव नहीं है क्योंकि वह एक आईएएस अधिकारी है और जेल में उस से ईश्वर प्रसाद के बारे में पूछताछ करना कानूनी पेचीदगी का कारण बन सकती है।

ऐसे में एसीपी रोहन (जीशु सेनगुप्ता), जिसे मूर्तियों की चोरी वाले केस में नियुक्त किया गया है, को चंचल को हाउस अरेस्ट रखने के लिए एक उपयुक्त स्थान खोजने के लिए कहा जाता है । एसीपी इस कार्य के लिए लिए प्रेतवाधित दुर्गामति किले को उपयुक्त पाते है जिसे आजकल पुलिस प्रशिक्षण के लिए उपयोग किया जा रहा है ।

चंचल को दुर्गामति किले में लाया जाता है और पुलिस की निगरानी में उस से पूछताछ शुरू की जाती है | चंचल की प्रत्येक गतिविधि पर नजर रखने के लिए सीसीटीवी कैमरे भी लगाए जाते हैं।

जल्द ही किले में कई असामान्य और अप्रत्याशित डरावनी घटनाएं शुरू हो जाती है। चंचल जंगलियों की तरह व्यवहार करना शुरू कर देती है | पुलिस एक मनोरोगी डॉक्टर को चंचल की परिवीक्षा के लिए लाती है |

चंचल डॉक्टर को बताती है की वह पिछले जन्म में एक रानी दुर्गामति थी और उसे उसके सेनापति ने धोखा दिया था और उसे मानसिक रूप से बीमार लड़की साबित किया था।

इस यातना के कारण दुर्गामति आत्महत्या कर लेती है और अब वह उस सेनापति से बदला लेना चाहती है। डॉक्टर चंचल को बताता है की सेनापति तो कब का मर गया होगा लेकिन चंचल यह बताती है की वो जीवित है और वह उसे मार कर रहेगी |

सारी बातें सुनाने के बाद मनोरोगी डॉक्टर अभी भी मानता है कि चंचल कुछ मानसिक विकार की समस्याओं का सामना कर रहा है। हालाँकि, यह सच्चाई नहीं है। सच्चाई कुछ ऐसी है जिसे यहाँ बड़ा देने से फिल्म देखने का मज़ा ही ख़राब हो जायेगा |

संगीत और गीत

जैक्स बेजॉय ने फिल्म के लिए बैकग्राउंड स्कोर की रचना की है। तनिष्क बागची, मालिनी अवस्थी, नमन अधकारी और अभिनव शर्मा ने फिल्म के लिए संगीत तैयार किया है। हालांकि अभी तक कोई गाना जारी नहीं किया गया है।

Durgamati Trailer

Durgamati Trailer

Spread the love

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here